आगरा: दारोगा की हत्या करने वाले पर 50 हजार का इनाम घोषित, एडीजी ने कही ये बात

आगरा। यूपी के आगरा में पारिवारिक विवाद के दौरान दारोगा प्रशांत यादव की गोली मारकर हत्या के मामले में आरोपी पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित हुआ है। आईजी ए सतीश गणेश ने आरोपी पर इनाम घोषित करने का ऐलान किया है। पुलिस की कई टीमें आरोपी को पकड़ने के प्रयास में जुटी हैं। ग्रामीणों ने बताया कि दारोगा की हत्या करने वाला विश्वनाथ बचपन से ही सनकी था। वह गांव में खुलेआम तमंचा लेकर घूमता था। घटना के समय भी वो तमंचा लहरा रहा था, तभी दारोगा प्रशांत यादव ने उसे पकड़ने का प्रयास किया था।

साल 2011 में पुलिस महकमे में सिपाही बनने के बाद 2015 में सीधी भर्ती परीक्षा पास कर दारोगा बने प्रशांत यादव के बीच के हर साथी उनकी बातें याद कर गमगीन हैं और आगरा में जहां-जहां उनकी पोस्टिंग रही, हर जगह आम जनता से उनका मृदु व्यवहार रहने के कारण आगरा की जनता भी इस कांड से काफी आहत है।

Gyan Dairy

ये था विवाद
आगरा के खंदौली के गांव नोहर्रा में किसान विजय सिंह ने अपने खेतों का बंटवारा दो बेटों में कर दिया था। उन्होंने 10 बीघा खेत बड़े बेटे शिवनाथ और 10 बीघा विश्वनाथ को दे दिया था। इसके साथ ही उन्होंने 7 बीघा खेत अपने पास रखे थे। विजय का छोटा बेटा विश्वनाथ मां के साथ रहता था, पर पिता की खेती बटाई पर करता था। इस बार पिता ने बड़े बेटे शिवनाथ को खेत बटाई पर दे दिया था। बुधवार को खेत से आलू निकालने के दौरान विश्वनाथ और उसकी मां ने हंगामा किया था और सूचना पर पुलिस मौके पर गई थी। यहां पुलिस ने सख्ती बरतने के स्थान पर बिना कार्रवाई डांट-डपट कर मामला खत्म करवा दिया था। इसके बाद शाम को जब विश्वनाथ ने फिर हंगामा किया तो शिवनाथ द्वारा पुलिस कंट्रोल को फोन करने पर दारोगा प्रशांत यादव और सिपाही चंद्रसेन वहां पहुंचे थे। विश्वनाथ को पकड़ने के दौरान उसने दारोगा पर गोली चला दी। जिससे दारोगा की मौके पर मौत हो गई थी।

Share