बिहार के बाद अब यूपी में जुटे अमित शाह, शिवपाल और राजाभैया के साथ 50 नेता होंगे भाजपा में शामिल

यूपी के दौरे पर आए शाह से मिलने के लिए सपा से उपेक्षित चल रहे शिवपाल यादव और बाहुबली राजा भैया बेताब हैं। एक दर्जन विधायकों के साथ भगवा झंडा थामने की तैयारी है। इसके लिए दोनों नेताओं ने अमित शाह से मिलने का समय मांगा है। यह जानकारी इन नेताओं के करीबी सूत्रों ने दी है। कहा जा रहा है कि शाह इन नेताओं की पार्टी की सदस्यता देने के मुद्दे पर प्रदेश कार्यकारिणी से विचार करेंगे। तभी कोई फैसला करेंगे। अगर शिवपाल भाजपा में गए तो सपा को बड़ा नुकसान होना तय है। इससे यूपी की जनता में संदेश जाएगा कि भाजपा से मुकाबले में विपक्ष काफी कमजोर है।

इनके भाजपा में जाने से ये सीटें खाली हो जाएंगी, लिहाजा भाजपा आसानी ने अपने चेहरों को एमएलसी बना सकेगी। इस कड़ी में सपा और बसपा के इन नेताओं का इस्‍तीफा एमएलसी चुनावों के लिहाज से भाजपा के लिए फायदे का सौदा हो सकता है। उल्‍लेखनीय है कि सूबे की सत्‍ता में आए भाजपा को चार महीने हो चुके हैं और अगले दो महीनों के भीतर उसको अपने मंत्रियों को किसी सदन का सदस्‍य बनाना जरूरी है।

रतीय जनता पार्टी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के तीन दिवसीय उत्तर प्रदेश दौरे के बीच लखनऊ में सियासी हलचलें तेज हो गई हैं। इधर अमित शाह लखनऊ पहुंचे, उधर समाजवादी पार्टी के दो और बसपा के एक एमएलसी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। खास बात यह है कि इनमें मुस्लिम शिया समुदाय के जाने माने नेता बुक्कल नवाब भी शामिल हैं। बताया जा रहा है कि ये सभी नेता भाजपा का दामन थाम सकते हैं। माना जा रहा है कि इन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य के लिए अपनी सीट छोड़ी है।

Gyan Dairy

उधर अमित शाह का हवाईअड्डे पर कार्यकर्ताओं ने भव्य स्वागत किया। शाह इस दौरान 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारियों का खाका खींचेंगे। वह साथ ही संगठन के लोगों के संग मंत्रियों, मुख्यमंत्री के अलावा संघ परिवार के संगठनों से भी बातचीत करेंगे। उनका राजधानी के प्रबुद्घ जनों से भी मुलाकात का कार्यक्रम है। तीन दिन के प्रवास में वह कुछ मतदान केंद्रों पर भी जाएंगे। वह किसी दलित के यहां भोजन भी कर सकते हैं। संघ परिवार के संगठनों के साथ भी उनकी समन्वय बैठक होगी।

Share