अयोध्या : विश्व की सबसे ऊंची भगवान श्रीराम प्रतिमा के लिए जमीन की तलाश पूरी, यहां स्थापित होगी मूर्ति

लखनऊ। अयोध्या में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की भव्य और विशाल प्रतिमा स्थापित करने के लिए जमीन की तलाश पूरी हो गई है। यह प्रतिमा अयोध्या के मांझा बरहटा गांव में लगेगी। यह भगवान श्री राम की विश्व में सबसे ऊंची प्रतिमा होगी। अयोध्या जिला प्रशासन ने इसके लिए भूमि की तलाश कर ली है। मांझा बरहटा में करीब 80 हेक्टेयर भूमि अधिग्रहण की अधिसूचना जिलाधिकारी कार्यालय से जारी कर दी गई है।

इस अधिसूचना के संदर्भ में मांगी गयी आपत्तियों के निस्तारण की कार्यवाही भू-अभिलेख अधिकारी कार्यालय में शुरू हो गयी है। अब तक लाकडाउन के कारण आई आपत्तियां निस्तारित नहीं की जा सकी थी। इस मामले में सैकड़ों की संख्या में आपत्तियां आई हैं जिनमें अभिलेखीय साक्ष्य के आधार पर निस्तारण हो रहा है।

इसी संदर्भ में सबसे पहले मीरापुर द्वाबा क्षेत्र में जून 2019 में भी करीब 37 हेक्टेयर भूमि अधिग्रहण की अधिसूचना जारी हुई थी और आपत्तियां भी दाखिल हुई। इस बीच इस क्षेत्र के 65 काश्तकारों ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ में याचिका प्रस्तुत कर दी। हाईकोर्ट ने इस याचिका की सुनवाई करते हुए ‘दि राइट टू फेयर कम्पनशेसन एण्ड ट्रांसपरेंसी इन लैण्ड एक्यूजीशन, रिहैबलिटेशन एण्ड रिसेटिलमेंट एक्ट 2013’ के अनुपालन का आदेश दिया था। यही आदेश मांझा बरहटा के काश्तकारों के संदर्भ में कोर्ट ने 28 जनवरी 2020 में भी दिया था।

Gyan Dairy

क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी राजेन्द्र प्रसाद यादव का कहना है कि फिलहाल अभी मामला मांझा बरहटा का ही है और करीब-करीब स्थान भी फाइनल है। उन्होंने बताया कि इस क्षेत्र में करीब 80 हेक्टेयर भूमि के अधिग्रहण की कार्यवाही प्रस्तावित है। आपसी बातचीत से भू-अर्जन के लिए प्रदेश सरकार की ओर से एक सौ करोड़ का धनावंटन भी किया जा चुका है जो कि भूमि अध्याप्ति अधिकारी (एसएलओ) के खाते में हस्तान्तरित कर दिया गया है।

Share