बिकरू कांड: आखिरकार गांव लौटे विकास दुबे के मां-बाप, कही ये बात

कानपुर। कानपुर के बहुचर्चित बिकरू कांड के बाद चर्चा में आये विकास दुबे को पुलिस ने एक एनकाउंटर में ढेर कर दिया था। इसके बाद से उसका पूरा परिवार फरार चल रहा था। मंगलवार को विकास दुबे की मां सरला देवी और पिता रामकुमार वापस गांव लौट आए। उनका कहना था कि बेटे की वजह से गांव वालों को बहुत दिक्कतें उठानी पड़ीं। विकास दुबे के पिता ने कहा कि मेरा बेटा एक अपराधी था। उसके साथ सही हुआ। एक अपराधी के साथ ऐसा होना ही चाहिए। रामकुमार ने आरोप लगाया कि पहले पुलिस ने ही विकास को शह दी थी। इस कारण वह दुर्दांत अपराधी बन गया। इसके बाद पुलिस उसकी दुश्मन बन गई और मार दिया।

वहीं मां सरला देवी ने कहा कि विकास के कारण उनके छोटे बेटे दीपक को भी जेल जाना पड़ा। उन्होंने कहा कि वही हम लोगों को देख रहा था। हमारी सेवा कर रहा था। उसके जेल जाने के बाद लखनऊ में दम घुटने लगा था। अब हम दोनों ने यह तय किया है कि जीवन के अंतिम दिन गांव में रहकर बिताएंगे। सरला देवी ने कहा कि हमारे बेटे के साथ जो हुआ वह अलग बात है मगर उसकी वजह से जिन गांव वालों को परेशानी झेलनी पड़ी, उनकी पूरी मदद की जाएगी। विकास की मां ने कहा कि वह प्रशासन से अपना बिकरू वाला घर बनवाने और फिर वहीं रहने की अनुमति मांगेंगी।

Gyan Dairy

बिकरू कांड के बाद सरला देवी लखनऊ में बेटे दीपक के यहां रह रही थीं। वहीं पिता रामकुमार को पुलिस ने 5 जुलाई को शिवली स्थित दामाद और बेटी के यहां भेज दिया था। दीपक दुबे के घर की कुर्की और उसके जेल जाने के बाद सरला शिवली में रह रही थीं। बीच में नवरात्र पर उन्होंने गांव आकर लोगों का हालचाल लिया था। ग्रामीणों के मुताबिक सोमवार रात लगभग साढ़े नौ बजे दोनों को एक कार लेकर आई और उमाकांत के घर पर छोड़कर चली गई।

Share