बिकरू कांड: विकास दुबे के साथी गोपाल सैनी ने किया सरेंडर, ताकती रह गई हाईटेक पुलिस

नई दिल्ली। कानुपर के चौबेपुर थानान्तर्गत बिकरू गांव में सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या करने वाला विकास दुबे 10 जुलाई को एक एनकाउंटर में मारा गया था। अब विकास दुबे के साथी गोपाल सैनी ने कानपुर देहात के माती कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया। गोपाल सैनी पर आरोप है कि उसने अपनी छत से पुलिस पर फायरिंग और बमबाजी की थी। कुख्यात अपराधी गोपाल ने अपने घर पर देसी बम तैयार किए थे। बीते काफी समय से एसटीएफ और पुलिस की टीमें इसकी सरगर्मी से तलाश रहीं थी।

एएसपी ग्रामीण बृजेश कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि बिकरू कांड के बाद से गोपाल फरार चल रहा था। इस पर पहले 50 हजार इनाम था, जिसे बढ़ाकर एक लाख रुपए कर दिया गया था। जांच में सामने आया था कि विकास के घर के सामने से गोपाल सैनी के घर पर भी असलहाधारी हमलावर मौजूद थे। गोपाल ने ही पुलिस पर बमों से हमला किया था। एसपी ने बताया कि गुरुवार को गोपाल को रिमांड पर लेकर पूछताछ की जाएगी।

बम बनाने का मास्टर माइंड गोपाल सैनी सरकारी राशन की दुकान चलाता था। जांच में पता चला कि विकास दुबे के नौकर दया शंकर के नाम पर सरकारी राशन की दुकान थी। इस दुकान को गोपाल सैनी ही चला रहा था। पुलिस पर भी हमले के लिए उसने ही बम तैयार किए थे। विकास के घर और पंचायत भवन से बम बरामद हुए थे। इसके घर से बम बनाने का मैटीरियल पुलिस ने बरामद किया था।

Gyan Dairy

ये आरोपी अभी फरार
बिकरू कांड के आरोपी विकास का भाई दीपू दुबे, राजाराम उर्फ प्रेम कुमार, शिव तिवारी, विष्णुपाल यादव उर्फ जिलेदार, राम सिंह, रामू बाजपेई, हीरू दुबे, बउअन शुक्ला, शिवम दुबे और बाल गोविंद का पुलिस कोई सुराग नहीं लगा सकी है। शिवम दुबे की जगह दूसरे शिवम को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया था। इसका नाम बाद में एफआईआर में शामिल किया गया था। पुलिस ने गोपाल के भाई गोविंद का नाम भी जांच में शामिल कर लिया है।

Share