यश भारती पेंशन बंदी पर BJP प्रवक्ता ने योगी से कहा – चालू कराइए मेरा गुज़ारा इसी से चलता था

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा आवंटित की जाने वाली यश भारती पेंशन पर रोक लगने के चलते भाजपा प्रवक्ता नरेंद्र सिंह राणा ने योगी सरकार को पत्र लिखकर कहा है कि उनका गुज़ारा इसी से चलता है लिहाज़ा इसे जल्द ही चालू किया जाए. यश भारती पेंशन के तहत यश भारती सम्मान और पद्म पुरस्कार पाने वाले 172 लोगों को हर महीने 50 हज़ार रुपए की पेंशन दी जाती थी.

दरअसल, इस पेंशन को अखिलेश सरकार ने शुरू किया था और यह काफी विवादों में रही. यश भारती पेंशन में कथित अनियमितताओं को लेकर संस्कृति मंत्रालय ने योगी सरकार को पत्र लिखकर इसकी समीक्षा की मांग की थी. यह पेंशन पाने वालों में कांग्रेस नेता राज बब्बर समेत क्रिकेटर सुरेश रैना तक शामिल हैं. एक आरटीआई द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक यश भारती पेंशन पर राज्य सरकार अब तक 9.11 करोड़ रुपए खर्च कर चुकी है.

नरेंद्र सिंह राणा ने योगी सरकार को पत्र लिख कहा है, ’50 हजार रुपए की यह पेंशन प्रदेश का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रोशन करने वालों को दी जाती है. वर्तमान में यह पेंशन रोक दी गई है। इससे बहुत लोगों का गुजारा चलता है जिसमें मैं भी हूं. राणा ने मांग की है कि इसे पुन: बहाल किया जाए. राणा ने बताया है कि उन्हें अंतरराष्ट्रीय पावरलिफ्टिंग कोच होने के नाते यह पेंशन दी जाती थी.

Gyan Dairy

यश भारती पाने वालों में अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन जैसी हस्तियां भी शुमार हैं, हालांकि, वे पेंशन नहीं लेते.  इस पेंशन की शुरुआत 1994 में मुलायम सिंह यादव के सीएम रहते हुई थी लेकिन अगले ही साल सीएम बनीं मायावती ने इसे खत्म कर दिया था. पिछले साल तत्कालीन सीएम अखिलेश यादव ने यश भारती और यूपी से पद्म पुरस्कार पाने वाली विभूतियों को 50 हज़ार रुपए हर महीने पेंशन देने का आदेश दिया था. इससे पहले यश भारती के तहत एकमुश्त राशि दी जाती थी.

Share