blog

कोरोना से जंग: बीएचयू की महिला प्रोफेसर और उनकी टीम ने खोजी कोरोना जांच की सटीक तकनीक

कोरोना से जंग: बीएचयू की महिला प्रोफेसर और उनकी टीम ने खोजी कोरोना जांच की सटीक तकनीक
Spread the love

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरी ​दुनिया दहशत में है। भारत में भी 21 दिनों का लॉकडाउन चल रहा है। इस बीच यूपी के वाराणसी में प्रतिष्ठित बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से राहत भरी खबर आ रही है। बीएचयू की महिला प्रोफेसर ने अपनी टीम साथ मिलकर महज एक माह में कोविड-19 की सटीक जांच करने की बेहद सरल तकनीक खोज ली है।

बीएचयू की प्रोफेसर डॉ गीता राय, एसोसिएट प्रोफेसर और उनकी टीम डोली दास, खुशबू प्रिया और हीरल ठक्कर, डिपार्टमेंट ऑफ मॉलिकुलर एंड ह्यूमन जेनेटिक्स, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय ने कोविड-19 की जांच के लिए नई तकनीक निकाली है। यह एक नई तरह का RT PCR आधारित नैदानिक ​​परीक्षण तकनीक है। डॉ गीता राय का दावा है कि इस तकनीक से घंटे भर में जांच मिल जाएगी। यह तकनीक ऐसे अनोखे प्रोटीन सिक्वेंस को टारगेट करती है जो सिर्फ कोविड-19 में मौजूद है। ये प्रोटीन किसी और वायरल स्ट्रेन में मौजूद नहीं।

डॉ गीता राय ने बताया कि अभी तक जो भी किट बनाई गई है वो इस सिद्धांत पर आधारित नहीं था। इस तकनीक के माध्यम से हम 2 से 3 लाख तक की मशीनों पर जांच कर सकते हैं जो कि शहर कर छोटे छोटे लैब में भी हो सकता है। जबकि एक मशीन महंगी आती है जो 15 से 20 लाख की होती है जो हर जगह आसानी से नही मिल पाती। ऐसी स्थिति में यह तकनीक काफी सरल और सस्ती साबित होगी। डॉ गीता राय ने बताया कि इस तकनीक से सिर्फ यूनिक वायरस को सर्च किया जाएगा इसलिए यह 100 प्रतिशत सही होगा। डॉ गीता राय ने बताया कि हमने इस तकनीक से सरल और कम समय मे सकीक जांच करने का तरीका खोज लिया है।अब सबसे बड़ी जरूरत है किसी इंडस्ट्री की जो जल्द से जल्द किट बना सके ताकि वो मार्केट में उपलब्ध रहे। इसके लिए सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन ऑफ इंडिया को मेल भी कर दिया गया है।

You might also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *