हाथरस गैंगरेप केस: CBI को ‘अपनों’ में दिख रहा कातिल, गांव वालों से नहीं हुई पूछताछ

हाथरस। उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में दलित युवती के साथ हुए कथित गैंगरेप कांड की पड़ताल में सीबीआई (CBI) की टीम जुटी हुई है। सीबीआई ने जांच के 23 वें दिन पहली बार बूलगढ़ी में हुई घटना में किसी को पूछताछ के लिए नहीं बुलाया। ना ही टीम गांव में किसी से जानकारी करने के लिए पहुंची। अब तक की जांच सीबीआई ने ‘अपनों’ से ज्यादा की है। माना जा रहा है सीबीआई को इस केस में अपनों पर ही शक है।

हाथरस के बूलगढ़ी में 14 सितम्बर को एक युवती के साथ वारदात हुई। 29 सितम्बर को युवती की दिल्ली में उपचार के दौरान मौत हो गयी। उसके बाद एसआईटी ने पूरे मामले की जांच की,क्योंकि पुलिस पर लापरवाही के सवाल उठे रहे थे। इसलिए एसआईटी ने पूरे मामले में पुलिस की भूमिका की जांच पड़ताल की है। बाकी मुकदमे की विवेचना सीबीआई को दी गयी है। सीबीआई हर पहलू पर जांच पड़ताल कर रही है। लगातार कई कई बार आरोपी और पीड़ित परिवार के अलावा इस प्रकरण से जुड़े लोगों से बातचीत हो चुकी है। सीबीआई की जांच भी लगभग पूरी होने को है। बुधवार को सीबीआई के कैम्प कार्यालय पर सन्नाटा रहा। टीम के सदस्य गांव में भी नहीं गये।

Gyan Dairy

पीड़ित परिवार की सुरक्षा का मोर्चा सीआरपीएफ ने संभाल रखा है। सीआरपीएफ हर वक्त मुस्तैदी के साथ परिवार की सुरक्षा में लगी है। ताकि कहीं कोई चूक न हो। बिना सीआरपीएफ की अनुमति के परिवार के लोग बाहर नहीं आ सकते है। अगर किसी को घर से बाहर आना होता है कि सीआरपीएफ के जवान उनके साथ हर वक्त साये की तरह से रहते है। पीड़ित के घर आने वाले हर व्यक्ति का ब्यौरा रखा जा रहा है।

Share