​कानपुर कांड: दुर्दांत विकास दुबे की पत्नी रिचा समेत कई लोगों पर दर्ज होगी FIR, SIT ने किया ये दावा

लखनऊ। कानपुर के बहुचर्चित बिकरू कांड की जांच कर रही एसआईटी ने दावा किया है कि दुर्दांत विकास दुबे की पत्नी समेत उसके रिश्तेदारों व परिचितों ने फर्जी दस्तावेजों पर सिम लिए थे। एसआईटी की रिपोर्ट के आधार पर कानपुर के जिला प्रशासन ने पुलिस को आरोपियों पर केस दर्ज करने के आदेश दिए हैं।

एसआईटी ने दावा है कि विकास दुबे के फाइनेंसर जय बाजपेई का पासपोर्ट भी फर्जी दस्तावेजों के आधार पर बनवाया गया। एसआईटी ने दावा किया है कि विकास दुबे की पत्नी रिचा, मोनू, अरविंद त्रिवेदी, राजू वाजपेयी, विष्णु पाल, दीपक, शिव तिवारी, शांति देवी, खुशी, रेखा ने फर्जी आईडी पर सिम ले रखे थे।

पुलिस ने जब इनके मोबाइल नंबरों का ब्योरा निकाला तब ये तथ्य सामने आए। इन सभी के खिलाफ अपर मुख्य सचिव और एसआईटी अध्यक्ष संजय भूसरेड्डी के निर्देश पर कार्रवाई के लिए कहा गया है। बिकरू कांड में पुलिस ने करीब तीन महीने बाद माती कोर्ट में 36 आरोपियों के खिलाफ करीब 1700 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की थी। इस मामले में दो आरोपी अभी फरार हैं। विकास दुबे समेत छह बदमाश मारे जा चुके हैं। चार्जशीट के मुताबिक घटना को साजिश के तहत अंजाम दिया गया था। दहशतगर्द विकास को पुलिसकर्मियों ने तहरीर पहुंचने से लेकर दबिश रवाना होने तक की जानकारी दी थी।

Gyan Dairy

बता दें कि दो जुलाई की रात को बिकरू गांव में विकास दुबे के घर दबिश देने पहुंची पुलिस की टीम पर घात लगाकर बैठे बदमाशों ने हमला कर दिया था। जिसमें सीओ देवेंद्र मिश्रा सहित आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। यूपी एसटीएफ ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए विकास दुबे सहित उसके पांच साथियों को मुठभेड़ में मार गिराया था।

Share