कानपुर चिड़ियाघरः बर्ड फ्लू का कहर जारी 10 पक्षियों की मौत से परिषद में हड़कंप,सैंपलों को भेजा भोपाल

कानपूर। यूपी के कानपूर के एक चिड़ियाघर में अचानक हुई पक्षियों की मौत से वहां के परिषद में हड़कंप मच गया है। इस समय देश के विभिन्न हिस्सों में बर्ड फ्लू की दहशत के बीच कानपुर के चिड़ियाघर में बुधवार को अचानक 6 पक्षियों की मौत हो गई। इससे पहले भी 4 पक्षियों की मौत हुई है। बर्ड फ्लू के खौफ को देखते हुए सभी के सैंपलों को भोपाल रिसर्च सेंटर भेज दिया गया है। चिड़ियाघर के डॉक्टरों ने जांच के बाद रानीखेत बीमारी होने के लक्षण बताए है।

8 जनवरी को भोपाल से रिपोर्ट आने के बाद हीपक्षियों की मौत का कारणों का पता चल सकेगा। डायरेक्टर सुनील चौधरी के अनुसार, ये बर्ड फ्लू के लक्षण नहीं है, फिर भी हमें पुरी सावधानी बरतने की जरुरत है। 10 पक्षियों की मौत के कारण फिलहाल रानीखेत बीमारी के लक्षण पाए गए है। 10 पक्षियों में 10 रेड जंगल फाउल, जंगली मुर्गे और 2 कड़कनाथ मुर्गें है। दोनों मुर्गें काफी बुजुर्ग 8 वर्ष के थे। पक्षियों के बाड़ों, बर्ड एवरी और झील के आसपास घूमने वाले दर्शकों का प्रवेश पूरी तरह से बंद कर दिया गया है।

Gyan Dairy

साथ ही बाड़ों में दवाइयों का छिड़काव करके पक्षियों के लिए एंटीबायोटिक और विटामिन की दवाइयों का कोर्स भी प्रारंभ किया गया है। इसके साथ ही पक्षी बाड़ों के कर्मचरियों को चिड़ियाघर में अन्य किसी भी बाड़े के पास जाना वर्जित कर दिया है। साथ ही पक्षियों के बाड़ों में दिन में दो बार हाइपो व एंटी बैक्टीरिया दवाईयों का छिड़काव करने का आदेश भी दिया है। अस्पताल परिसर में किसी भी बाहरी व्यक्ति का प्रवेश वर्जित किया गया है।

Share