जमीन विवाद: विक्रेता सुल्तान अंसारी ने कहा- श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट बेदाग, बताई पूरी सच्चाई

अयोध्या। अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण के लिए गठित श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट पर भ्रष्टाचार का लगने के बाद जमीन के विक्रेता सुल्तान अंसारी खुलकर सामने आ गए हैं। सुल्तान अंसारी ने ट्रस्ट पर लगे आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। अंसारी ने कहा कि 10 मिनट में नहीं बल्कि 11 साल में जमीन दो करोड़ से साढ़े 18 करोड़ की हुई है। ट्रस्ट ने छानबीन के बाद जमीन खरीदी है। इस दौरान पैसे का लेनदेन ऑनलाइन हुआ है।

जमीन के विक्रेता सुल्तान अंसारी ने बताया कि बाग बिजेशी की जिस 1.20 हेक्टेयर भूमि को लेकर बवाल हो रहा है। उस जमीन का एग्रीमेंट 2011 में बबलू पाठक, कुसुम पाठक व हमारे पिता मोहम्मद इरफान ने फिरोज आलम के परिवार से किया था। उस समय जमीन की कीमत एक करोड़ रुपये तय हुई थी। जिसमें 10 लाख रुपये पेशगी के रूप में दिए गये थे।

इसके बाद जमीन को लेकर कुछ विवाद हो गया, मामला कोर्ट में पहुंचा। मामला कोर्ट में विचाराधीन था, जिस कारण जमीन का बैनामा नहीं हो पाया। जब जमीन का एग्रीमेंट समाप्त हुआ तो 2014 में फिर एग्रीमेंट हुआ। 2014 में भी मामला कोर्ट में लंबित था, एग्रीमेंट आगे बढ़ाया गया। इसके बाद 2019 में विवाद सुलझ गया तो दोबारा उसका एग्रीमेंट किया गया। उस समय दो करोड़ रुपये कीमत तय हुई। जिसमें से 50 लाख रुपये पेशगी के रूप में दिए गए थे।

इस तरह 10 मिनट में नहीं बल्कि 10 साल में जमीन की कीमत दो करोड़ रुपये से 18 करोड़ रुपये हुई है। उन्होंने बताया कि इसी बीच श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट राममंदिर परिसर के लिए जमीन व मकानों का अधिग्रहण कर रहा है। जो लोग विस्थापित किए जा रहे हैं उन्हें बसाने के लिए ट्रस्ट जमीन ले रहा है। ऐसे में इस जमीन के लिए ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने उनसे वार्ता की थी। 2019 में इस जमीन को लेकर जो एग्रीमेंट हुआ उसमें नौ लोग थे।

ट्रस्ट का कहना था कि हम किसी एग्रीमेंट धारक के खाते में पैसे नहीं भेज सकते, किसी बैनामेदार के खाते में भेजेंगे। फिर हमने अपने पार्टनर से बात की। सभी की सहमति से हमारे व रवि मोहन के नाम जमीन का बैनामा हुआ। फिर हमने निर्धारित दो करोड़ की राशि बबलू पाठक को देकर जमीन का बैनामा करा लिया। उसके बाद हमने राम जन्मभूमि ट्रस्ट को एग्रीमेंट कर दिया। जो लोग आरोप लगा रहे हैं उन्हें बता दें कि हमने मार्केट रेट से कम पर जमीन का बैनामा किया है।

Gyan Dairy

आज की उस जमीन की मालियत 24 करोड़ में बनेगी। चूंकि हमारी भगवान श्री राम में आस्था है इसलिए हमने कम रेट में जमीन का बैनामा किया है। सुल्तान अंसारी ने कहा कि भगवान श्रीराम के मंदिर के लिए हमने भी 51 हजार रुपए की राशि दान की थी। उनहोंने कहा कि एक दिन में बबलू पाठक से बैनामा लिया गया फिर ट्रस्ट को एग्रीमेंट किया गया लेकिन इसमें कोई गलत नहीं है, कोई कानूनी अड़चन भी नहीं। सुल्तान अंसारी ने बताया कि जो लोग जमीन खरीद में ट्रस्ट पर घोटाले का आरोप लगा रहे हैं उनकी जानकारी के लिए बता दूं कि ट्रस्ट ने पूरे प्रकरण में पारदर्शिता बरती है।

ट्रस्ट ने जमीन का एग्रीमेंट कराने के बाद आरटीजीएस से पैसे का ट्रांसफर किया है। अभी ट्रस्ट की ओर से 8.50 करोड़ मेरे खाते में व इतनी ही रकम रविमोहन के खाते में ट्रांसफर की गई है, जो कि एक नंबर का पैसा है। अभी डेढ़ करोड़ बकाया भी है, ट्रस्ट बैनामा के समय शेष पैसा देगा। कहा कि बहुत जल्द ही इस जमीन की रजिस्ट्री भी हो जाएगी। सुल्तान अंसारी कई वर्ष पूर्व समाजवादी पार्टी से जुड़े रहे। कुछ वर्षों बाद ही सुल्तान का सपा से मोहभंग हो गया।

 

Share