अखिलेश राज में ‘चिड़िया’ की चोंच ठीक करवाने में खर्च हुए 1.37 करोड़

योगी सरकार के सत्ता में आते ही पूर्ववर्ती अखिलेश यादव की सरकार में एलडीए के अधिकारीयों की ओर से की गई वित्तीय अनियमितता के मामले एक के बाद एक मामले सामने आने लगे हैं.

गोमती रिवरफ्रंट, जयप्रकाश नारायण इंटरनेशनल सेंटर में सैकड़ों करोड़ के घोटाले के बाद अखिलेश सरकार की ओर से पुराने लखनऊ में हो रहे हेरिटेज जोन के निर्माण में भी गड़बड़ी का मामला सामने आया है. यहां अधिकारीयों ने घंटाघर के ऊपर लगे एक चिड़िया की चोंच ठीक करवाने में 1.37 करोड़ रुपये खर्च कर दिए.

मंगलवार को शहरी आवासीय नियोजन मंत्री सुरेश पासी ने हेरिटेज जोन का निरीक्षण किया. इस दौरान उनकी नजर घंटाघर में कुछ उखड़े ईंटों पर गईं. सांस्कृतिक धरोहर की ऐसी दशा देखकर मंत्रीजी एलडीए के अधिकरियों पर भड़क उठे और पूछा घंटाघर की यह हालत है तो 1.37 करोड़ रुपये कहां खर्च हुए?

इस सवाल के जवाब में एलडीए के एक्सईएन बीपी मौर्या ने कहा कि घंटाघर के ऊपर लगे ‘चिड़िया के चोंच’ ठीक करवाने में खर्च हुए हैं. जवाब सुनते ही मंत्री सुरेश पासी समेत वहां खड़े सभी लोगों की हंसी छूट गई. मंत्री ने कहा-“ आप लोगों ने हद कर दी है.”

Gyan Dairy

इसके बाद मंत्री जी शाही तालाब के पास पहुंचे. कागज देखा तो पता चला कि सीढियां बनवाने में 4 करोड़ और म्यूजिक सिस्टम लगाने में 8 करोड़ खर्च हुए. इस पर मंत्रीजी ने पूछा तालाब में बैठकर म्यूजिक कौन सुनेगा? इस बात का जवाब एलडीए के विद्युत् यांत्रिक एक्सईएन एके सिंह के पास नहीं था.

बता दें अखिलेश के हेरिटेज क्सोने प्रोजेव्क्ट में लगी दो लाइट की कीमत 5.60 लाख तो इंगले लाइट की कीमत 1.80 लाख रुपये है. इतना ही नहीं इन्हें तुर्की से मंगवाया गया है और लाइट के लिए पोल पोलैंड से आया है.

फिलहाल हेरिटेज जोन के निरीक्षण के बाद मंत्री सुरेश पासी ने कहा कि योजना में काफी घोटाला हुआ है जिसकी जांच कराकर रिपोर्ट मुख्यमंत्री को भेजी जाएगी. उन्होंने कहा कि किसी भी दोषी अधिकारी को बख्सा नहीं जाएगा.

Share