मदरसे ने गौहत्या पर प्रतिबंध को लेकर चला रखा है पोस्टकार्ड अभियान

उत्तर प्रदेश के संभल मैं एक मुस्लिम मदरसे ने गाय को बचाने के लिए पोस्टकार्ड अभियान चलाया है। यह अभियान दोनों समुदायों में चलाया जा रहा है और इसके सदस्य गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने के साथ सभी दूध देने वाले पशुओं को काटने से रोकने की अपील कर रहे है।

पिछले पांच-छह साल से चलाये जा रहे इस अभियान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष तीन मांगें राखी गई हैं जिनमें पहली मांग हिन्दुस्तान की पवित्र धरती से मांस निर्यात पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया जाए। दूसरी पूरे देश में गोहत्या पर प्रतिबन्ध लगाकर उसको राष्ट्रीय माता का दर्जा दिलाया जाए तथा जानवरों काटने पर प्रतिबंध लगाकर राष्ट्रीय कानून बनाया जाए।

अलीजान जमीयत उल मुस्लिमीन एजुकेशनल सोसायटी द्वारा संचालित मदरसे के मौलाना मोहम्मद अली जौहर पोस्टकार्ड अभियान को चला रहे हैं जिसमें मीट एक्पोर्ट पर पूरी तरह से प्रतिबंध, गोहत्या करने वाले बूचड़खानों पर प्रतिबंध और इस मामले को लेकर कानून बनाया जाए।

Gyan Dairy

मदरसे के सदस्य फिरोज खान का कहना है कि पशुओं का कटना नहीं रोका गया तो आने वाली इंसान की नस्ल को दूध पीने को नहीं मिलेगा। गाय-भैंस को सिर्फ किताबों में देखने को ही मिलेगा। अब देखना है कि सरकार इस अपील को किस तरह लेती है। उधर 8 अप्रैल को मदरसों के सदस्यों ने दिल्ली में एक कार्यक्रम में भगवान महावीर जयंती के कार्यक्रम में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से मिलकर गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग रखी है।

Share