मायावती के भरोसेमंद लालजी वर्मा और राम अचल राजभर बसपा से निष्कासित, जानें वजह

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी ने यूपी में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए सख्त कदम उठाना शुरू कर दिया है। आज बसपा नेतृत्व ने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राम अचल राजभर और विधानमंडल दल के नेता लालजी वर्मा को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया। शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली को बसपा विधायक दल का नया नेता चुना गया है।

बहुजन समाज पार्टी ने विज्ञप्ति जारी कर बताया कि पार्टी के दो विधायकों राम अचल राजभर और लालजी वर्मा को पंचायत चुनावों के दौरान पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने के कारण बाहर निकाला जा रहा है। पार्टी नेतृत्व ने निर्देश दिया कि दोनों विधायकों को पार्टी के किसी भी कार्यक्रम में न बुलाया जाए।

बता दें कि राम अचल राजभार और लालजी वर्मा दोनों बसपा मुखिया मायावती के काफी करीबी और भरोसेमंद थे। दोनों नेता अम्बेडकरनगर जिले के कटेहरी एवं अकबरपुर विधानसभा क्षेत्र से पार्टी के विधायक हैं। हालांकि पंचायत चुनाव में पार्टी विरोधी गतिविधियों एवं उससे पूर्व विभिन्न मौकों पर बरती गई अनुशासनहीनता ने लालजी वर्मा व राम अचल राजभर को बसपा से बाहर का रास्ता दिखाया दिया गया।

Gyan Dairy

बता दें कि पूर्व मंत्री व पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राम अचल राजभर के खिलाफ शासन में कई जांचें चल रही हैं। लिहाजा दोनों लोगों से बसपा छुटकारा भी पाना चाहती थी शायद उनके निष्कासन की यह भी बड़ी वजह रही। दोनों बसपा के कद्दावर नेताओं में शुमार रहे हैं। बसपा के स्थापना के समय से दोनों पार्टी से जुड़े रहे।

Share