मेरठ के डॉक्टर ने अमेरिका में रचा इतिहास, कोरोना संक्रमित मरीज के फेफड़े किए ट्रांसप्लांट

नई दिल्ली। मेरठ के उक डॉक्टर ने अमेरिका में अपना और देश का नाम रोशन किया है। डॉक्टर ने अपने नेतृत्व में एक कोरोना मरीज का बेहद जटील ऑपरेशन कर उसमें दो नए फेफड़े ट्रांसप्लांट किए हैं। बताया जा रहा है कि ये ऑपरेशन इतना जटिल था कि इसे पूरा करने में 10 घंटे का समय लगा। कोरोना मरीज में किया गया ये इस तरह का पहला सफल ऑपरेशन है।

मेरठ में जन्मे और पले-बढ़े डॉ अंकित भरत के नेतृत्व में यह जटिल आपरेशन किया गया है। उनके नेतृत्व में चिकित्सकों के एक दल ने अमेरिका में कोरोना संक्रमण से पीड़ित एक 20 वर्षीय युवती के फेफड़े ट्रांसप्लांट किए हैं। कोरोना संक्रमण के कारण इस मरीज को दो नए फेफड़े लगाने का यह पहला ऑपरेशन है।

शिकागो के के नार्थ-वेस्टर्न मेमोरियल हॉस्पिटल में जिस युवती के फेफड़े ट्रांसप्लांट किए गए हैं, अगर उसका ऑपरेशन नहीं किया जाता तो उसकी मौत हो जाती। इस बेहद जटिल ऑपरेशन के बाद युवती को फिलहाल डॉक्टरों की सघन निगरानी में आईसीयू में रखा गया है। उसकी स्थिति में अब सुधार है।

Gyan Dairy

अस्पताल के मुताबिक जिस कोरोना संक्रमित युवती को दो नए फेफड़े लगाए गए हैं, वह पिछले दो महीने से कृत्रिम फेफड़े पर आश्रित थी। 10 घंटे तक चले इस ऑपरेशन की प्रक्रिया काफी जटिल थी। कोरोना का संक्रमण युवती के पूरे फेफड़े में फैल चुका था। थोरासिस सर्जरी के अगुआ और मेरठ में जन्में डॉक्टर अंकित भरत ने बताया कि कोविड-19 के गंभीर रोगियों के लिए विभिन्न प्रकार के ट्रांसप्लांट उनके जीवन का आधार बनेंगे।

डॉक्टर ने बताया कि फिलहाल मरीज को वेंटिलेटर पर रखा गया है। अभी संक्रमण के खतरे को देखते हुए उनके परिवार वालों को भी उनसे मिलने की इजाजत नहीं है। हालांकि, परिवार वीडियो कॉल के जरिये युवती से बात कर सकता है। अस्पताल ने उम्मीद जताई है कि युवती जल्द ही पूरी तरह से स्वस्थ्य होकर सामान्य जिंदगी जी सकेगी।

Share