आगरा मेट्रो निर्माण का पीएम मोदी ने किया वर्चुअल शुभारंभ, सीएम योगी बोले-नए विकास की शुरुआत

आगरा। आगरा मेट्रो रेल परिजोजना का पीएम मोदी ने वर्चुअल शुभारंभ किया। मेट्रोल रेल के शुभारंभ के बाद आगरा की बहुप्रतीक्षित मेट्रोल रेल परियोजना का काम शुरू हो जायेगा। 15वीं वाहिनी पीएसी परेड मैदान में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने सीएम योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी भी ताजनगरी में पहुंच चुके हैं। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल इस कार्यक्रम में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए शामिल हो रही हैं। इस परियोजना के जरिए टूरिस्ट स्पॉट जैसे ताजमहल, आगरा फोर्ट, सिकंदरा को रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड से जोड़ा जाएगा।

आगरा के 15 बटालियन पीएसी परेड मैदान में उद्घाटन कार्यक्रम किया गया। इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आगरा के पास बहुत पुरातन पहचान तो हमेशा रही है, अब इसमें आधुनिकता का नया आयाम जुड़ रहा है, सैकड़ों वर्षों का इतिहास संजोए ये शहर अब 21वीं सदी के साथ कदमताल मिलाने के लिए तैयार हो रहा है। आगरा में स्मार्ट सुविधाएं विकसित करने के लिए पहले ही लगभग 1,000 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है।

आगरा मेट्रो रेल परियोजना के निर्माण के शुभारंभ के मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आधुनिक सुविधाएं और आधुनिका कनेक्टीविटी मिलने से पश्चिमी यूपी का सामर्थ्य और बढ़ रहा है। देश का पहला रैपिड रेल ट्रांसपोर्ट सिस्टम मेरठ से दिल्ली के बीच बन रहा है. दिल्ली-मेरठ के बीच 14 लेन का एक्सप्रेस-वे भी जल्द ही इस क्षेत्र के लोगों को सेवा देने लगेगा। इस कार्यक्रम के दौरान सीएम योगी ने कहा कि आगरा में पब्लिक ट्रांसपॉर्ट का एक नया स्वरूप मेट्रो के रूप में प्राम्भ शुरू हो रहा है।

आगरा के ऐतिहासिक शहर को मेट्रो मिलने जा रही है। उन्होंने कहा कि आगरा में 26 लाख आबादी है साथ ही प्रतिवर्ष लाखों पर्यटक यहां आकर पर्यटन का लाभ लेते है। यहां के पर्यावरण में दिक्कत आ रही थी। सुप्रीम कोर्ट ने भी टिप्पणी की थी मेट्रो से इसमें असर पड़ेगा।
सीएम ने कहा कि कानपुर में मेट्रो का कार्य युद्धस्तर पर चल रहा है अब आगरा में भी पीएम द्वारा निर्माण कार्य शुरू होने का शुभारंभ कर रहे हैं।

इससे पहले शहरी विकास राज्यमंत्री हरदीप पुरी बोले आगरा में अच्छा काम किया है पूरे देश में 100 स्मार्ट सिटी में आगरा चौथे नंबर पर है। उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार ने 2004 से 2014 तक केवल 150 लाख करोड़ शहरी विकास योजनाओं पर खर्च हुआ था, जबकि मोदी सरकार के 2014 से 2020 तक के कार्यकाल में 10 लाख करोड़ से ज्यादा के काम हुए हैं।

Gyan Dairy

 

 

 

Share