इन बातों के डर से राजनाथ नहीं बनना चाहते यूपी के सीएम! पढ़िए ये खबर

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में भाजपा किसे मुख्यमंत्री बनाएगी? तमाम नामों पर कयासबाजी जारी है। राजनीतिक गलियारों में राजनाथ सिंह को बीजेपी का सीएम चेहरा माना जा रहा था, लेकिन बुधवार को उनके इनकार के बाद अब नए नामों को सीएम बनाए जाने को लेकर अटकलें तेज हैं। आइए जानते हैं कि आखिर राजनाथ सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री क्यों नहीं बनना चाहते हैं।

1- केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह अभी केंद्र में नंबर दो की हैसियत रखते हैं। ऐसे में अगर वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनते हैं तो उऩ्हें फिर से प्रदेश की राजनीति में लौटना पड़ेगा, जो वह कतई नहीं चाहेंगे।

2- राजनीतिक जानकारों की मानें तो राजनाथ सिंह अगर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनते हैं तो उनके बेटे पंकज सिंह के करियर पर विराम लग सकता है। उनके सीएम बनते ही यूपी में पंकज के लिए मंत्री पद के दरवाजे बंद हो सकते हैं। ऐसा राजनाथ कतई नहीं चाहेंगे। उन्होंने पंकज सिंह को राजनीति में स्थापित करने में पूरा जोर लगाया है और चाहते हैं कि उन्हें यूपी मंत्रिमंडल में कोई बड़ी जिम्मेदारी मिले।

3- जानकारों की मानें तो यूपी के मतदाताओं ने चुनाव में करीब-करीब सभी पुराने चेहरों को नकार दिया है। यदि राजनाथ सीएम बनने के बाद पुरानी परिपाटी दोहराते हैं तो उनके साथ भी यही हो सकता है। यह डर भी राजनाथ सिंह और भाजपा को सता रहा है।

Gyan Dairy

4- राजनाथ सिंह राजपूत जाति से ताल्लुक रखते हैं, जबकि आंकलन है कि पिछड़ी जाति के वोटर्स ने भाजपा की बड़ी जीत में अहम भूमिका निभाई है। ऐसे में राजनाथ को सीएम बनाने से पीएम नरेंद्र मोदी के मिशन 2019 को धक्का पहुंचा सकता है। जबकि पार्टी ने 2017 के विधानसभा चुनाव में मुश्किल से भाजपा को सिर्फ अगड़ों की पार्टी होने के तमगे से मुक्ति मिली है।

5- उत्तर प्रदेश में 2002 का विधानसभा चुनाव राजनाथ सिंह की अगुआई में लड़ा गया था, जिसमें भाजपा को महज 88 सीटें मिली थीं, जबकि 1996 के विधानसभा चुनाव में पार्टी को 174 सीटें मिली थीं। इस हकीकत को राजनाथ सिंह और भाजपा भी जानती है।

Share