अब अखिलेश यादव के नेतृत्व में होगा संघर्ष, बताएंगे असली विपक्ष क्या होता है

आजमगढ़ : भले ही यूपी में समाजवादी पार्टी को आज तक की सबसे करारी शिकस्त मिली हो, पर उनके हौसले अभी भी बुलन्द हैं। न सिर्फ पार्टी आलाकमान ने बल्कि सपा के दूसरे नेताओं और विधायकों ने भी इसके संकेत दे दिये हैं। सपाइयों का कहना है कि असली विपक्ष क्या होता है वह दिखाएंगे। जनसमस्याओं पर सरकार को घेरने में कोई कार कसर नहीं छोड़ी जाएगी। यूपी सरकार को घेरने और खुद को मजबूत विपक्ष साबित करने के लिये पार्टी के दिग्गजों ने रणनीति भी बनाई है।

आजमगढ़ कलेक्ट्री कचहरी स्थित समाजवादी पार्टी कार्यालय पर सोमवार को हुइ्र बैठक में जिलाध्यक्ष ने साफ कर दिया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के नेतृत्व में सपा आम आदमी से जुड़े मुद्दों और जनसमस्याओं के लिये कड़ा जनसंघर्ष करेगी। जनहित में विश्वास रखने वाली समाजवादी पार्टी ने सरकार में रहकर जनता की खूब सेवा की पर जनता को बर्गलाया और गुमराह किया गया। इससे यूपी चुनाव के परिणाम प्रभावित हुए।

Gyan Dairy

इस बैठक में हरिप्रसाद दूबे, विधायक आलमबदी आजमी, डा. संग्राम यादव, नफीस अहमद, दुर्गा प्रसाद यादव व कल्पनाथ पासवान, पूर्व मंत्री बलराम यादव, पूर्व सांसद नन्दकिशोर यादव, जयराम पटेल, विधान परिषद सदस्य राकेश कुमार यादव उर्फ गुड्डू, पिछड़ा वर्ग आयोग अध्यक्ष रामआसरे विश्वकर्मा, योगेन्द्र निषाद, हरिश्चन्द्र यादव, लालमनि राजभर, गुड्डी देवी, पूर्व सांसद रामकृष्ण यादव, राजेश यादव, हंसराज यादव, नसीम अहमद, रामआसरे चैहान वगैरह मौजूद रहे।

Share