यूपी CM के लिए मनोज सिन्हा नहीं इनका नाम हुआ फाइनल, शाम को हो सकता है ऐलान!

कानपुर। उत्तर प्रदेश में भाजपा रविवार को अपनी सरकार बनाने जा रही है। जिसको लेकर राजधानी से लेकर कानपुर में हलचल है। सूत्रों के मुताबिक जिले से सातवीं बार विधायक चुने गए सतीश महाना को कुर्सी मिलने की चर्चा जोरों पर हैं। इन्हें पांच दिन पहले दिल्ली बुलाया गया था और अरूण जेटली के साथ ही इनकी मुलाकात अमित शाह से भी हुई है।

अरूण जेटली के हैं करीबी
महाराजपुर सीट से लगातार सातवीं बार विधायक चुने गए सतीश महाना, कल्याण सिंह की सरकार में मंत्री रहे हैं। इनके भाजपा के केंद्रीय नेताओं से अच्छे संबंध बताए जाते हैं। सतीश महाना अरूण जेटली के बहुत करीबी हैं। अरूण जेटली जब भी कानपुर आते हैं तो महाना के घर जरूर जाते हैं। पांच दिन पहले अरूण जेटली के बुलावे पर महाना दिल्ली गए थे। लौटने के बाद उनके चेहरे में मुस्कान थी। महाना को यह कुर्सी मिलने के कई कारण हैं। पहला इनके खिलाफ एक भी मुकदमा नहीं है और कभी भी विवादों में महाना के नाम नहीं आया।

satish-1489815342

Gyan Dairy

सातवीं बार चुने गए विधायक
सतीश महाना के राजनीतिक करियर की शुरूआत 1989 से हुई। महाना पहले एबीवीपी से जुड़े और फिर संघ में भी कुछ साल रहे। इन्हें 1991 में भाजपा ने छावनी से टिकट दिया और यह भारी मतों से चुनाव जीते। इसके बाद महाना लगातार सात बार भाजपा के प्रत्याशी के तौर पर जीतते आ रहे हैं। इन्हें एक बार यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री के रूप में काम करने का अवसर मिला। 2017 के चुनाव में महाना ने बसपा प्रत्याशी को करीब 80 हजार मतों से हराया। महाना राजनीति शास्त्र से परास्नातक तक की पढ़ाई किए हैं। साथ ही महाना की पकड़ वैश्य मतदाताओं में सीधी है।

विरोधी दलों के नेताओं से बेहतर संबंध
सतीश महाना यूपी विधानसभा में बतौर उपसभापति समिति के पद पर पांच साल तक काम किया है। इनके बारे में बताया जाता है कि सपा, बसपा और कांग्रेस के नेताओं से बेहतर संबंध हैं। इसी के चलते महाना का नाम विधानसभा अध्यक्ष के तौर पर भाजपाई ले रहे हैं। भाजपा नगर अध्यक्ष सुरेंद्र मैथानी ने कहा कि हमें ऐसी जानकारी नहीं हैं। हां सोशल मीडिया में सतीश महाना का नाम इस पद पर चल रहा है। अगर इन्हें विधानसभा अध्यक्ष बनाया जाता है तो हमारे और कानपुर के लोगों के लिए हर्ष की बात होगी। वहीं सब इस मामले पर महाना से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हम पार्टी के छोटे से सिपाही हैं। दल जो भी जिम्मेदारी देगा उसे हम निभाएंगे।

Share