हाथरस दुष्कर्म मामले की जांच को एसआईटी गठित, फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलेगा केस

लखनऊ। हाथरस में दलित युवती से सामूहिक बलात्कार और इलाज के दौरान हुई उसकी मौत के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तीन सदस्यीय विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया है। जिसके अध्यक्ष गृह सचिव भगवान स्वरूप होंगे। जबकि पुलिस उप महानिरीक्षक चंद्रप्रकाश व सेनानायक,पीएसी आगरा पूनम सदस्य होंगी। एसआईटी अपनी रिपोर्ट सात दिन में पेश करेगी। साथ ही मुख्यमंत्री ने हाथरस की घटना के लिये दोषी व्यक्तियों के खिलाफ फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा चलाने के निर्देश भी दिए हैं।

हाथरस दुष्कर्म मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात की है और कहा कि वह आरोपियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करें। इस बात की जानकारी मुख्यमंत्री ने ट्वीट के जरिए दी। मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर जानकारी दी कि, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाथरस की घटना पर वार्ता की है और कहा है कि दोषियों के विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई की जाए।’ उधर युवती का अंतिम संस्कार बीती रात दो बजे परिजनों की सहमति से पुलिस बल के साथ किया गया। गौरतलब है कि हाथरस जिले में गत 14 सितंबर को कथित रूप से सामूहिक बलात्कार और गला दबाये जाने की घटना की शिकार हुई 19 वर्षीय दलित युवती ने मंगलवार सुबह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया था।

Gyan Dairy
Share