लगे PM मोदी के कार्यालय पर BJP विरोधी नारे, काशीप्रांत की बैठक में पहुंचे नेताओं का घेराव

यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी में किए गए टिकट बंटवारे के बाद पार्टी में कलह शुरु हो गई है। टिकट की दावेदारी करने वालों से लेकर कार्यकर्ताओं तक में रोष फैला हुआ है। बनारस दौरे पर पहुंचे बीजेपी के प्रदेश प्रभारी ओम माथुर और प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य का कार्यकर्ताओं ने जमकर विरोध किया, और मुर्दाबाद के नारे लगाए। साथ ही काशी क्षेत्र के प्रभारी सुनील ओझा पर पैसे लेकर टिकट बांटने का आरोप लगाया।

बता दें कि इसमें काशी क्षेत्र के 15 जिलों के पदाधिकारी हिस्सा ले रहे हैं। बता दें ‌किु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र के क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशियों का विरोध कम होने का नाम नहीं ले रहा है। सबसे ज्यादा विरोध कैंट, रोहनिया और शिवपुर विधानसभा सीटों पर हो रहा है। शुक्रवार को कैंट क्षेत्र से भाजपा के घोषित सौरभ श्रीवास्तव के विरोध के शहर के कई इलाकों में पोस्टर लगाए गए।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक पूर्वांचल में टिकट वितरण के बाद पार्टी में उपजे असंतोष को शांत करने के लिए काशी क्षेत्र की आपात बैठक बुलाई गई।  रिपोर्ट के मुताबिक पूर्वांचल में टिकट वितरण के बाद पार्टी में उपजे असंतोष को शांत करने के लिए काशी क्षेत्र की आपात बैठक बुलाई गई। इसमें हिस्सा लेने के लिए प्रदेश प्रभारी ओम माथुर और केशव प्रसाद जैसे ही बाबतपुर एयरपोर्ट पहुंचे बीजेपी कार्यकर्ताओं ने उनका कड़ा विरोध किया।कार्यकर्ताओं के भारी विरोध प्रदर्शन को देखते हुए पंडाल में होने वाली बैठक को बंद कमरे में कर दिया गया। पुलिस मौके पर तैनात है।

इस पोस्टर में खुद को कैंट विधानसभा क्षेत्र का मतदाता बताने वाले एक व्यक्ति ने वाराणसी से सांसद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की कि वे निर्वतमान विधायक ज्योत्स्ना  श्रीवास्तव के बेटे को हटा दें। इस पोस्टर में आरोप लगाया गया है कि सौरभ श्रीवास्तव एक भूमाफिया, व्यभिचारी, अहंकारी व्यक्ति हैं। कहा कि सौरभ श्रीवास्तव का परिवार पिछले 27 सालों से विधायक है लेकिन उपलब्धि के रुप में बताने के लिए कुछ भी नहीं है।

Gyan Dairy

बीजेपी कार्यकर्ताओं के इस भारी विरोध प्रदर्शन के बाद केशव प्रसाद मौर्य ने बैठक में कहा कि आज जो लोग परिवार नहीं संभाल पा रहे हैं, वे प्रदेश को संभालने का दावा कर रहे हैं। कहा कि यह समय जातिवाद की राजनीति करने वाले, गुंडों और भ्रष्ट्राचार का संरक्षण करने वाले, अन्नदाताओं के साथ खिलवाड़ करने वाले को जवाब देने का है। इसलिए कार्यकर्ता एकजुट रहें।

उन्होंने पीएम मोदी से सवाल किया कि क्या सचमुच इस परिवार को झेलना भाजपा के कार्यकर्ताओं और मतदाताओं की बेबसी है ? बीजेपी कार्यकर्ताओं ने ओम माथुर के सामने जमीन पर लेट गए। उन्होंने सबसे ज्यादा विरोध वाराणसी में शहर दक्षिणी सीट से निवर्तमान विधायक दादा का टिकट काटने का विरोध किया। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश के सह प्रभारी सुनील ओझा ने पैसे लेकर टिकट बांटे हैं।

उन्होंने कहा कि पार्टी विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी के बल पर नहीं बल्कि संगठन के बल पर विजय की ओर आगे बढ़ेगी। उधर, प्रधानमंत्री के संसदीय कार्यालय पर भी आज भाजपा कार्यकर्ताओं ने जोरदार विरोध प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि मैं प्रधानमंत्री से अपील की कि शहर दक्षिणी से जिस प्रत्याशी को उतारा गया है, उसने कभी भी जमीनी स्तर पर काम नहीं किया है। इसलिए शहर दक्षिणी से घोषित प्रत्याशी को वापस लिया जाए।

Share