blog

नहीं रहे समाजवादी पुरोधा बेनी प्रसाद वर्मा उर्फ बेनी बाबू

नहीं रहे समाजवादी पुरोधा बेनी प्रसाद वर्मा उर्फ बेनी बाबू
Spread the love

लखनऊ। राज्यसभा सदस्य और समाजवादी राजनीति के पुरोधा बेनी प्रसाद वर्मा अब नहीं रहे। बेनी बाबू वर्तमान में राज्यसभा के सदस्य हैं। बेनी प्रसाद वर्मा सर्वप्रथम 1974 में दरियाबाद विधानसभा के चुनाव में विधान सभा सदस्य बने। और जिसका श्रेय इनके राजनैतिक गुरू समाजवादी चिंतक रामसेवक यादव को जाता हैं। अपने समर्थकों के बीच बेनी बाबू के नाम से मशहूर श्रीवर्मा को सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का बेहद करीबी माना जाता था। वह समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्यों में एक थे।

बेनीप्रसाद का जन्‍म 11 फरवरी 1941 को उत्‍तरप्रदेश के बाराबंकी में हुआ था। इनकी प्रारंभिक शिक्षा बाराबंकी से पूरी हुई। इसके बाद वे लखनऊ आ गए, जहां से उन्होंने लखनऊ विश्‍वविद्यालय से बीए तथा एलएलबी की पढ़ाई पूरी की। 1956 में उनकी शादी मालती देवी से हुई। आज उनके तीन पुत्र एवं दो पुत्रियां हैं।

बेनी प्रसाद वर्मा पहली बार 1974 में दरियाबाद विधानसभा के चुनाव में विधान सभा सदस्य बने। इसके बाद 1979 में जनता पार्टी की सरकार में पहली बार मंत्री बने। इसके बाद 1989 एवं 1993 की मुलायम सिंह यादव सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे। इसके साथ ही वह केन्द्र में एचडी देवगौड़ा एवं इन्द्रकुमार गुजराल की सरकार में संचार मंत्री रहे। कुछ वर्षों के लिए वह कांग्रेस में भी गए और 2011 में मनमोहन सिंह सरकार में इस्पात राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार का जिम्मा संभाला। बेनी बाबू ने कैसरगंज व गोंडा लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। उन्हें कांग्रेस के नेता व वॉयनाड से सांसद राहुल गांधी का भी भरोसेमंद माना जाता था।

You might also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *