UP में एक अक्टूबर से होगा मतदाता सूची का पुनरीक्षण, अगले साल होंगे पंचायत चुनाव

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में पंचायतें अपना कार्यकाल पूरा कर रही हैं। राज्य निर्वाचन आयोग ने आज यानी मंगलवार को एक विस्तृत कार्यक्रम जारी किया है। उत्तर प्रदेश के राज्य निर्वाचन आयुक्त मनोज कुमार ने बताया कि एक अक्तूबर से बूथ लेबल आफिसर (बीएलओ) घर-घर जाकर वोटर लिस्ट की जांच करेंगे। इसके बाद 29 दिसंबर को वोटर लिस्ट का प्रकाशन होगा।

मतदाता सूची के पुनरीक्षण अभियान में पिछले पंचायत चुनाव यानि वर्ष 2015 के बाद से पहली जनवरी 2021 तक 18 वर्ष की उम्र पूरी करने वाले ग्रामीण युवाओं को पंचायत चुनाव की वोटर लिस्ट में नए वोटर के रूप में दर्ज किया जाएगा। इसी के साथ इस अवधि में मृत, अन्यत्र स्थानांतरित या डुप्लीकेट वोटरों के नाम हटाए भी जाएंगे। 15 से 30 सितम्बर के बीच यह जांच की जाएगी कि किस ग्राम पंचायत का आंशिक भाग, अन्य ग्राम पंचायत अथवा नगरीय निकाय में शामिल हुआ है। ऐसी सूरत में उस ग्राम पंचायत के आंशिक भाग या ग्राम पंचायत को प्रदेश की ग्राम पंचायतों की सूची से हटाया जाएगा। इसके साथ ही वोटर लिस्ट पुनरीक्षण के लिए बीएलओ और पर्यवेक्षकों को उनके कार्यक्षेत्र का आवंटन किया जाएगा। यह दोनों काम अलग-अलग समानांतर चलेंगे।

Gyan Dairy

ऑनलाइन भी कर सकेंगे आवेदन
एक अक्तूबर से 12 नवम्बर तक बीएलओ घर-घर जाकर वोटर लिस्ट में शामिल वोटरों की गणना और नए वोटरों का सर्वेक्षण करेंगे। पहली अक्तूबर से 5 नवम्बर के बीच ऑनलाइन आावेदन करके भी वोटर बना जा सकेगा। राज्य निर्वाचन आयोग की वेबसाइट sec.up.nic.in पर ऑनलाइन प्राप्त आवेदन पत्रों की घर-घर जाकर जांच 6 नवम्बर से 12 नवम्बर के बीच की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share