वर्दीधारी बदमाशों ने सर्राफा व्यवसायियों से लूटे 30 लाख, जांच में जुटी पुलिस

गोरखपुर। उत्‍तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में महराजगंज के दो सर्राफा कारोबारियों को गोरखपुर रेलवे बस स्टेशन के पास बुधवार की सुबह कुछ वर्दीधारी बदमाशों ने ऑटो से अगवा कर नौसढ़ के हरैया में ले जाकर 320 लाख लूट लिए। दोनों व्यापारियों के पास करीब 19 लाख रुपये और 11.20 लाख रुपये के कीमत का सोना था। पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया। बाद में उच्चाधिकारियों को मामले की जानकारी होने पर पुलिस सक्रिय हुई। पीड़ित से पूछताछ बाद पुलिस ने बदमाशों की तलाश शुरू कर दी है। बदमाशों की पहचान के लिए रेलवे बस स्टेशन से नौसढ़ तक लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाला जा रहा है। महराजगंज जिले के निचलौल कस्बा निवासी दीपक वर्मा ओर रामू वर्मा स्वर्ण कारोबारी हैं।

दोनों की कस्बे में दुकान है। बुधवार की सुबह छह बजे वह महराजगंज से बस पकड़ कर लखनऊ जाने के लिए घर से निकले। सुबह तकरीबन आठ बजे गोरखपुर रेलवे बस स्टेशन पर बस पहुंचने पर दोनों लखनऊ जाने के लिए दूसरी बस में बैठ गए। इस दौरान दो वर्दीधारी उनके पास पहुंचे और साथ चलने को कहा। पहले वे बोलेरो में बैठने का इशारा किए पर दोनों ने बोलेरो में साथ चलने से मना कर दिया तब वे इशारे से एक ऑटो बुलाए और दोनों को उसमें बैठा कर नौसढ़ की तरफ रवाना हो गए। नौसढ़ चौकी पर भी जब दोनों नहीं रुके तब व्यापारियों को शक हुआ। इस बीच एक ने अपने पास से तमंचा सटा दिया और चौकी से 500 मीटर आगे हरैया के पास सबसे पहले दीपक वर्मा को लूटा। फिर रामू को अपना शिकार बनाया।

उसके पास से आठ लाख रुपये और छह लाख सोना लूट लिए। लूट की घटना के बाद दीपक ने सबसे पहले मोहद्दीपुर में रहने वाले अपने रिश्तेदार को इसकी जानकारी दी और नौसढ़ चौकी पर पहुंचा। औराप है कि नौसढ़ चौकी पर तैनात पुलिस कर्मियों ने दीपक की शिकायत को गंभीरता से नहीं लिया। इसके आधे घंटे बाद रामू भी चौकी पर पहुंचा। इस बीच चौकी पर पहुंचे दीपक के रिश्तेदार ने घटना की जानकारी परिजनों के साथ ही पुलिस के उच्चाधिकारियों को दी। उच्चाधिकारियों को मामले की जानकारी होने के बाद नौसढ़ चौकी की पुलिस सक्रिय हुई। वह पीड़ित को घटनास्थल पर लेकर पहुंची। लूट की जानकारी होने पर एसपी उत्तरी मनोज कुमार अवस्थी, सीओ कैम्पियरगंज, रामगढ़ताल थानेदार मौके पर पहुंच कर जांच पड़ताल शुरू कर दिए।

 

Gyan Dairy

घटना की जांच में जुटी पुलिस को आशंका है कि बदमाश महराजगंज जिले से ही उनके पीछे लगे हुए थे। घटना के खुलासा के लिए महराजगंज पुलिस की भी मदद ली जा रही है। पुलिस को संदेह है कि बदमाशों की संख्या दो से अधिक रही होगी। ऑटो के आगे या पीछे कसी एक अन्य वाहन से वह उनका बैक सपोर्ट कर रहे थे। महराजगंज से पहुंचे पीड़ित दीपक के भाई तारकेश्वर से भी पुलिस पूछताछ कर रही है। पुलिस की पूछताछ में दोनों स्वर्ण कारोबारियों ने बताया कि वह लखनऊ से नये आभूषण खरीद कर लाते थे। वह नकदी रुपये लेकर आभूषण लेने जा रहे थे। इसके अलावा पहले के लाए आभूषण में कुछ गुणवत्ता की कमी होने पर उनको वापस करने के लिए ले जा रहे थे। वह अक्सर 10ः15 दिन पर लखनऊ जाते थे।

 

Share