उन्नाव केस: तीसरी पीड़िता रोशनी को आया होश, पुलिस को बताई पूरी सच्चाई

कानपुर। उन्नाव के बहुचर्चित बबुरहा कांड की तीसरी पीड़िता रोशनी को आज यानी बुधवार को कानपुर के रीजेंसी होश आ गया। सातवें दिन होश आने पर मजिस्ट्रेट के सामने रोशनी ने अपना बयान दर्ज करवाया। पीड़िता ने मजिस्ट्रेट को पूरे मामले के बारे में विस्तार से बताया। रोशनी का बयान दर्ज होने के बाद पुलिस आगे की कार्रवाई में जुट गई है।

अपने बयान में रोशनी ने बताया कि मैं अपनी बुआ और चचेरी बहन तीनों कुरकुरे के पैकेट लेकर खेत गए थे। चारा काटने के बाद वहीं बैठे थे तभी विनय उर्फ लंबू और सचिन भी कुरकुरे लेकर आए। हम सभी लोगों ने कुरकुरे खाए तीखा लगा तो लंबू ने पानी की बोतल दे दी। बुआ और चचेरी बहन ने मुझसे जबरदस्ती पानी का बोतल लेकर पानी पी गईं। बोतल में थोड़ा पानी बचा तो मैंने भी पी लिया। इसके बाद हम तीनों छटपटाने लगे। रोशनी ने आगे बताया कि हम लोग की हालत देख लंबू और सचिन वहां से भाग गए।

इसके बाद पुलिस ने रोशनी से पूछा कि क्‍या उन लोगों को मारा-पीटा या यौन शोषण हुआ तो पीड़िता ने इस बात से साफ इनकार कर दिया। जब रोशनी से पूछा गया कि क्या विनय व सचिन ने उसके साथ कोई जबरदस्ती की तो उसने कहा, अगर वह ऐसा करते तो उन्हें वहीं सबक सिखा देते। हम लोगों के साथ जो कुछ हुआ वह धोखे से हुआ है।

Gyan Dairy

ये है पूरा मामला
बता दें कि 17 फरवरी के दिन बबुरहा गांव की तीन नाबालिक लड़कियां जानवरों के लिए चारा लेने घर से निकली थीं। देर शाम तक घर वापस नहीं लौटने पर परिजनों ने उनकी खोजबीन शुरू की। इसी दौरान परिजनों को तीनों लड़कियां खेत में बेहोशी की हालत में मिलीं। सभी लड़कियां आपस में दुपट्टे से बंधीं हुईं थी और सभी के मुंह से झाग निकल रहा था। परिजनों ने गांव वालों की मदद से तुरंत उन तीनों के नजदीकी अस्पताल ले गए जहां दो लड़कियों की मौत हो चुकी थी।

Share