यूपी: बीजेपी सांसद कौशल किशोर के बेटे आयुष को हाईकोर्ट से मिली राहत, फिलहाल गिरफ्तारी पर रोक

लखनऊ। मोहनलालगंज क्षेत्र से बीजेपी सांसद कौशाल किशोर के बेटे आयुष किशोर को गिरफ्तारी से राहत मिल गई है। लखनऊ हाईकोर्ट ने आयुष किशोर को गिरफ्तारी से स्टे दे दिया है। हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने आयुष की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। पुलिस ने सांसद पुत्र आयुष किशोर और उसके साले आदर्श सिंह के खिलाफ 120बी, 420, 505 आईपीसी के तहत एफआईआर दर्ज की थी। इसमें आयुष द्वारा अपने ऊपर फायरिंग कराकर पार्टनरों को झूठे मामलों में फंसाने की साजिश रची गई थी। पुलिस आयुष की तलाश कर रही थी। इसके बाद आयुष ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में सरेंडर की अर्जी लगाई थी।

हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल करके आयुष ने कहा कि पुलिस उसके ठिकानों पर छापेमारी कर रही है। पुलिस उसे मारपीट कर जेल भेजना चाहती है। जबकि वह स्वेच्छा से आत्ममसर्पण करना चाहता है। लिहाजा इस संदर्भ में थाने से रिपोर्ट मंगाई जाए। इस पर थाना मड़ियांव द्वारा भेजी गई रिपोर्ट में कहा गया था कि अभियुक्त वांछित है। यदि आत्मसमर्पण करना चाहता है, तो कोई आपत्ति नहीं है। मामले की अगली सुनवाई 12 मार्च को होगी। आज यानी शुक्रवार को आयुष द्वारा लगाई गई आत्मसमर्पण की अर्जी पर सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने गिरफ्तारी पर रोक लगा दी।

बता दें कि सांसद पुत्र आयुष ने पहले ही आत्मसर्पण करने की बात कही थी। आयुष ने वीडियो जारी करके कहा था कि मैंने अपने माता-पिता को बहुत कष्ट दिया है। मैं इस लड़की के चक्कर में आ गया था। उसने ही मुझ पर हमला किया है। मैने अपने ऊपर हमला नहीं कराया है। घर वालों की मर्जी के बिना मैंने शादी की और जिन्दगी बर्बाद कर ली। उसने नसीहत भी दी कि ऐसी लड़कियों से बचकर रहने की जरूरत है। आयुष ने यह भी आरोप लगाया कि जिस दिन उस पर गोली चली, उस दिन उसे पीटा भी गया था। इसके निशान शरीर पर है। जब वह अस्पताल में था तब पत्नी ने फोन कर धमकाया भी था। बता दें कि मड़ियांव छठा मील के पास मंगलवार देर रात भाजपा सांसद कौशल किशोर और विधायक जय देवी के बेटे आयुष किशोर (30) को गोली मारकर बाइक सवार बदमाश फरार हो गए थे। आनन-फानन में घायल को इलाज के लिए ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया था।

Gyan Dairy

 

Share