इस सीट से चुनाव लड़ सकते हैं सीएम योगी, विधायक ने दिया सीट छोड़ने का ऑफर!

लखनऊ : उत्तर प्रदेश केमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और दोनों उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और डॉ. दिनेश शर्मासमेत मंत्रिमंडल में कुल पांच ऐसे लोग हैं, जिन्हें छह माह बाद पद पर बने रहने के लिए विधायक बनना जरूरी है। उन्हें छह महीने के अंदर दोनों में से किसी एक सदन का सदस्य होना जरूरी है। ऐसे में उनके चुनाव लडऩे की चर्चा जोरो पर है।

माना जा रहा है कि वे विधानसभा का चुनाव लड़ सकते हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के लिए अपनी सीट छोड़ने की पहली पेशकश गोरखपुर जिले के ही कैंपियरगंज के विधायक फतेहबहादुर सिंह ने की है। फतेहबहादुर ने बीजेपी के प्रदेश महामंत्री सुनील बंसल से मिलकर अपनी सीट से इस्तीफे की पेशकश की है। 2012 में परिसीमन के बाद यह सीट अस्तित्व में आयी है। यहां योगी का खुद का प्रभाव है और यह उनके संसदीय क्षेत्र का हिस्सा भी है।

फतेहबहादुर अपनी सीट छोड़ने के लिए तैयार

फतेहबहादुर के पिता वीरबहादुर सिंह भी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। फतेह पिछली बार बसपा से टिकट कटने के बाद शरद पवार की पहल पर एनसीपी से चुनाव लड़े थे और सूबे में अकेले उन्हीं की जीत हुई थी लेकिन अबकी विधानसभा चुनाव के काफी पहले ही वह भाजपा में आ गये और उन्होंने अपनी जीत बरकरार रखी। संकेत मिल रहे हैं कि फतेहबहादुर की इस पेशकश के बाद कई और लोग भी योगी के लिए अपनी सीट खाली करने का मन बना रहे हैं।

पूर्वांचल में फायरब्रांड चेहरे के रूप में योगी आदित्यनाथ के गढ़ गोरखपुर की नौ विधानसभा सीटों में एक चिल्लूपार को छोड़कर सभी सीटों पर बीजेपी ने परचम लहराया है। इस ऐतिहासिक जीत के पीछे योगी का दबदबा माना जाता है। आपको बता दें कि योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से पांच बार से सासंद हैं। ऐसे में जानकारों के मुताबिक कैंपियरगंज के अलावा गोरखपुर शहर से भी योगी चुनाव लड़ सकते हैं। आपको बताते हैं कैंपियरगंज और गोरखपुर शहर सीट के बारे में …

गोरखपुर शहर सीट

इस सीट पर बीजेपी से तीन बार विधायक रहे डॉ. राधा मोहन दास अग्रवाल चुनाव जीतते आए हैं। वह योगी आदित्यनाथ के बेहद करीबी माने जाते हैं। राधा मोहन दास अग्रवाल की पहचान बड़े ही सादगी भरे नेता के रूप में होती है। सूत्रों के मुताबिक उम्मीद यही लगाई जा रही है कि योगी आदित्यनाथ गोरखपुर शहर से विधानसभा का चुनाव लड़ सकते है। इसकी वजह है कि योगी कैबिनेट में राधा मोहन को जगह नहीं दी गई है।

Gyan Dairy

कैम्पियरगंज सीट

इस सीट पर बीजेपी के फतेहबहादुर सिंह ने चुनाव जीता है। जहां योगी के नाम पर वोट मिलता है। सूत्रों के मुताबिक मौजूदा विधायक फतेहबहादुर सिंह को गोरखपुर से लोकसभा का चुनाव लड़ाकर दिल्ली भेजा जा सकता है। फतेहबहादुर सिंह इससे पहले भी कई बार विधायक और मंत्री रह चुके हैं।

मौर्य के लिए भी अपनी सीट छोड़ने को तैयार

उधर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के लिए इलाहाबाद समेत कई जिलों के विधायकों ने सीट खाली करने के लिए उनसे संपर्क किया है। केशव ने उन्हें यह कहकर मना कर दिया कि यह सब पार्टी नेतृत्व तय करेगा, इसलिए कोई जल्दबाजी न दिखाएं।

इनको भी बनना है विधायक

केशव के अलावा उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, मंत्री स्वतंत्र देव सिंह और मोहसिन रजा को भी विधायक बनना जरूरी है। पार्टी इस दिशा में विचार कर रही है। संगठन महामंत्री सुनील बंसल ने इस विषय पर मंथन किया है। माना जा रहा है कि सरकार का कामकाज सुचारू रूप से चलने के साथ ही इस पर फैसला हो जाएगा।

Share