UP: कानपुर में महिला सिपाही के पति ने सभासद के परिवार को जिंदा जलाया, दो बच्चों की दर्दनाक मौत

कानपुर। उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात से एक दिलदहलाने वाली खबर सामने आई है। यहां के अकबरपुर के नेहरूनगर मोहल्ले में किराए पर रहने वाली महिला सिपाही के पति ने रविवार की रात मकान मालिक, उसकी पत्नी व दो बच्चों पर पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया। गंभीर रूप से झुलसे चारों लोगों को नाजुक हालत में अस्पताल पहुंचाया गया, जहां दोनों बच्चों की मौत हो गई। खबर खिले जाने तक पति -पत्नी की हालत गंभीर बनी हुई है। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपित ने कोतवाली के सामने वाहन के आगे कूद कर जान देने की कोशिश की। इससे वह भी गंभीर रूप से घायल हो गया।

पुलिस के मुताबिक अकबरपुर कोतवाली में तैनात महिला सिपाही ऊषा प्रजापति अपने पति के साथ नेहरू नगर में सभासद जितेंद्र कुमार के मकान में किराए पर रहती है। रविवार रात में ऊषा ड्यूटी पर कोतवाली गई थी। उसका पति अवनीश उसको छोड़कर पेट्रोल लेकर सीधे घर पहुंचा। अवनीश सीधे पहली मंजिल पर पहुंचा और सभासद जितेन्द्र, उनकी पत्नी अर्चना, बेटी पुत्री हर्षिता (5) व बेटे हनु (15 महीने) पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी।

इसी मंजिल पर किराए पर रहने वाली दूसरी महिला सिपाही अर्चना इनको बचाने पहुंची तो अवनीश ने उस पर डंडे से हमला कर दिया और वहां से भाग गया। वह पहली मंजिल से केबिल के सहारे नीचे कूदा और वहां खड़ी सभासद की कार में भी आग लगा दी। इस बीच चीख पुकार सुनकर आसपास के लोग पहुंच गए, उन्होंने कार की आग बुझाई और फिर ऊपर पहुंचे तो नजारा देख डर गए।

Gyan Dairy

आसपास के लोगों ने किसी तरह आग बुझाई और पुलिस को खबर की, पुलिस ने पहुंचकर पूरे परिवार को अस्पताल भेजा। डाक्टरों ने गंभीर हालत देख चारों को कानपुर रेफर कर दिया। कानपुर में इलाज के दौरान दोनों बच्चों हर्षिता और हनु की मौत हो गई। डॉक्टरों के अनुसार सभासद की पत्नी अर्चना की हालत ज्यादा गंभीर है। उधर वाहन के आगे कूदे आरोपित अवनीश ही हालत भी गंभीर है। लोगों ने बताया कि हाइवे पर उसने पहले एक कार के आगे कूदकर जान देने की कोशिश की लेकिन चालक ने कार रोक ली, इसके बाद उसने किसी बड़े वाहन के आगे छलांग लगाई। सभासद के पिता ने बताया कि परिवारों में कभी कोई विवाद नहीं हुआ, लोगों ने बताया की सभासद ने जब से नई कार ली थी अवनीश वह खटकने लगे थे।

 

Share