यूपी: प्रतापगढ़ में ग्रामीणों ने बनाया कोरोना माता का मंदिर, भीड़ बढ़ती देख पुलिस ने हटाया

प्रतापगढ़। हमारे देश में आज भी अंधविश्वास की जड़ें इतनी गहरी हैं, जिनका अंदाजा लगा पाना मुश्किल है। अब यूपी के प्रतापगढ़ जिले के एक गांव में कोरोना माता की मूर्ति स्थापित कर उसकी पूजा शुरू कर दी गई। कोरोना संकट से डरे ग्रामीण बड़ी संख्या में दर्शन-पूजन के लिए मंदिर पहुंचने लगे। मीडिया ने मामला उठाया तो प्रशासन हरकत में आया। पुलिस ने तत्काल मंदिर हटवा दिया है।

जानकारी के मुताबिक प्रतापगढ़ के सांगीपुर के पूरे जूही (शुकुलपुर) में कोरोना संक्रमण से तीन ग्रामीणों की मौत हो गई। इसके बाद पूरे गांव में दहशत व्याप्त हो गई। गांव के लोकेश श्रीवास्तव की पहल के बाद ग्रामीणों ने सात जून को कोरोना माता की मूर्ति स्थापित कराई। ये मूर्ति गांव में नीम के पेड़ के पास स्थापित कर इसे कोरोना माता मंदिर का नाम दिया गया। ग्रामीणों का मानना है कि पूर्वजों ने चेचक को माता शीतला का स्वरूप माना था अब कोरोना भी देवी माता का ही रूप है।

Gyan Dairy

हालांकि जानकारों का कहना है कि जब समाज बीमारी या फिर महामारी से हार जाता है तो भयभीत होकर पूजा-अर्चना करने लगता है। खास बात ये है कि मूर्ति के चेहरे पर मास्क लगा है। इसके अलावा दर्शन करने के लिए आने वालों को दोनों हाथ धुलाने के बाद ही प्रवेश दिया जाता है। ग्रामीणों द्वारा कोरोना माता का मंदिर बनाए जाने की जानकारी मिलने पर मीडियाकर्मियों ने खबर को प्रमुखता से उठाया। इसके बाद प्रशासन हरकत में आया। पुलिस ने शनिवार को एहतियातन मूर्ति को वहां से हटवा दिया।

Share