उत्तर प्रदेशः दो महिलाओं में पुलिस इंस्पेक्टर की असली पत्नी खोजेगी सीबीसीआईडी, जानें पूरा मामला

आगरा। यूपी पुलिस में इन दिनों मृतक आश्रित कोटे में नौकरी व पारिवारिक पेंशन को लेकर दो दो पत्नियों के दावे सामने आने से हड़कंप मचा हुआ है। हाल ही में आगरा में तैनात रहे एक इंस्पेक्टर की पेंशन पर दो महिलाओं ने दावा कर दिया। इसके बाद पूरे मामले की जांच सीबीसीआईडी को सौेंप दी गई। अब इंस्पेक्टर की असली पत्नी की खोज सीबीसीआईडी करेगी। दरअसल इंस्पेक्टर रिटायर हो गए थे। इसके बाद अचानक उनकी मौत हो गई। पति के निधन के कुछ समय बाद पत्नी ने पेंशन के लिए आवेदन किया तो पता चला कि विभाग द्वारा पहले ही पेंशन किसी दूसरी महिला को स्वीकृत हो चुकी है। दिवंगत इंस्पेक्टर की असली पत्नी का पता लगाने की जिम्मेदारी सीबीसीआईडी को सौंपी गई है। सूत्रों का दावा है कि अकेले आगरा में ही ऐसे एक दर्जन मामलों की जांच चल रही है।

दिवंगत इंस्पेक्टर की पत्नी के बारे में सीबीसीआईडी जांच कर रही है। रिटायर इंस्पेक्टर की सर्विस बुक निकलवाई गई है। उसमें पत्नी के रूप में जिसका नाम दर्ज होगा नौकरी की असली हकदार वही है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि कई बार पुलिस कर्मी सर्विस बुक में अपनी पत्नी का नाम नहीं लिखाते हैं। ऐसे मामले में उनके साथ कोई दुर्घटना घट जाए तो नौकरी और पेंशन का असली हकदार कौन है यह तय करने में बहुत दिक्क्त आती है। मृतक आश्रित में नौकरी के लिए आवेदन मात्र से ही नौकरी नहीं मिल जाती है। दिवंगत पुलिस कर्मी के माता.पिताए पत्नी और बच्चों को एसएसपी के समक्ष पेश होना पड़ता है। उनसे बात की जाती है। कोई विवाद तो नहीं है यह पूछा जाता है। ऐसे में कोई भी अड़ंगा लगा दे तो नौकरी लटक जाती है।

कई पुलिस कर्मियों की आशिकी के किस्से जीवनकाल में खुल जाते हैं, लेकिन कई ऐसे होते हैं, जिनके मरने के बाद दूसरीवाली का पता चलता है। आगरा में एक अन्य मामला सामने आया, जिसमें युवक के पिता पुलिस विभाग में थे। सेवाकाल में ही उनकी मौत हो गई। पिता ने पहली पत्नी से छिपाकर दूसरी शादी की थी। मरने के बाद मामला खुला तो दूसरी पत्नी ने पेंशन में रोड़ा अटका दिया। बाद में पंचायत में तय हुआ कि पेंशन दूसरी पत्नी लेगी। पहली पत्नी के बेटे को नौकरी मिलेगी। पेंशन युवक की सौतेली मां को स्वीकृत हो गई। लेकिन जब युवक को नौकरी मिलने की बात आई तो सौतेली मां ने रोड़ा लगा दिया।

Gyan Dairy

पिछले दिनों एक महिला एसएसपी आफिस पहुंची और उसने पति की सर्विस बुक दिखाने की मांग की। वह यह देखना चाहती थी कि पत्नी ने अपनी सर्विस बुक में नॉमिनी किसे बनाया है। ऐसा ही एक मामला दो दिन पहले आया। महिला ने मृतक आश्रित में नौकरी के लिए आवेदन किया है। पति की मौत हो चुकी है। सास-ससुर की एनओसी भी चाहिए। महिला से कहा गया है कि वह उन्हें भी बुलाकर लेकर आए। सास-ससुर आने को तैयार नहीं हैं। वे कहते हैं कि बहू तो उनके साथ रहती है। यह तो बेटे की बाहर वाली है।

Share