उत्तर प्रदेश: मजदूरों को लखनऊ से जाना था छत्तीसगढ़, भेज दिया प्रयागराज

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी में प्रवासी श्रमिकों के साथ लापरवाही का मामला सामने आया है। यहां से कुछ प्रवासी मजदूरों को छत्तीसगढ़ जाना था लेकिन सभी को प्रयागराज की बस में बैठाकर वहां भेज दिया गया। यह लापरवाही छत्तीसगढ़ जाने के लिए डॉ. शकुंतला मिश्रा विश्विविद्यालय में बने आश्रय केन्द्र पर हुई।

इस केंद्र में मौजूद श्रमिकों में कई ऐसे भी थे जिन्होंने ट्रेन के लिए आवेदन किया था। इनका कहना है कि इन्हें कोई सूचना नहीं दी गई। जब ज्यादा दिन बीत गए तो ये सब शकुंतला मिश्रा विश्वविद्यालय आश्रय केन्द्र तक आ गए। एक दिन पहले कुछ जागरूक नागरिकों ने नि:शुल्क बस मुहैया करा रहे स्वयं सेवकों से इनके लिए बात की। तय हुआ कि शनिवार दोपहर तक बस आएगी। इन श्रमिकों में कुछ रायबरेली रोड के आसपास की निर्माण इकाइयों से आए थे और कुछ फैजुल्लागंज से। सभी छत्तीसगढ़ जाने के लिए यहां इकट्ठे हुए थे लेकिन इन्हें अलग-अलग बसों में बैठाकर प्रयागराज भेज दिया गया।

Gyan Dairy

जिला प्रशासन को इस गड़बड़ी का पता चला तो जांच शुरू हुई। एडीएम सिटी पूर्व केपी सिंह के अनुसार उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी। अब आश्रय केन्द्र के कर्मचारियों से पता लगाया जा रहा है कि किसने छत्तीसगढ़ के श्रमिकों को प्रयागराज की बस में बैठाया। इसके अलावा दूसरे प्रांतों के श्रमिकों की नई सूची तैयार हो रही है, जिन्हें प्रशासन घर भिजवाएगा।

Share