बिकरू कांड में शहीद हुए सीओ देवेंद्र मिश्र की बेटी वैष्णवी बनी ओएसडी, जानें अन्य परिवारों का हाल

कानपुर। कानपुर के बहुचर्चित बिकरू कांड में शहीद हुए सीओ देवेन्द्र मिश्रा की बेटी वैष्णवी मिश्रा को यूपी पुलिस में विशेष कार्य अधिकारी (ओएसडी) के पद पर नियुक्ति मिल गई है। इस कांड में शहीद हुए एक सिपाही के भाई को भी आश्रित में नौकरी मिल गई है। फिलहाल दोनों की तैनाती कानपुर कमिश्नरी में की गई है। बता दें कि दो जुलाई 2020 की रात पुलिस ने गैंगस्टर विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए बिकरू गांव में दबिश दी थी। विकास दुबे और उसके गैंग ने हमला करके आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी।

बिकरू कांड में बिल्हौर के तत्कालीन सीओ देवेंद्र मिश्रा भी शहीद हुए थे। उनकी बड़ी बेटी वैष्णवी मिश्रा ने पुलिस विभाग में ओएसडी पद के लिए आवेदन किया था। एक साल तक चली प्रक्रिया के बाद वैष्णवी को नियुक्ति मिल गई है। पहले वैष्णवी की तैनाती पुलिस मुख्यालय में की गई थी लेकिन अब उनका तबादला कानपुर कमिश्नरी में कर दिया गया है। पुलिस कमिश्नर ऑफिस में उन्होंने पदभार ग्रहण कर लिया है।

Gyan Dairy

इसके साथ ही आगरा के फतेहाबाद थाना क्षेत्र के नगला लोहिया गांव निवासी सिपाही बबलू कुमार भी शहीद हुए थे। बबलू की तैनाती बिठूर थाने में थी। बबलू के छोटे भाई उमेश ने भर्ती के लिए आवेदन किया था। फिजिकल और मेडिकल परीक्षा पास करने के बाद उमेश ने अब खाकी पहन ली है। नियुक्ति के बाद कानपुर पुलिस कमिश्नरी में ही उनको तैनाती मिली है। बिकरू कांड में दरोगा अनूप सिंह, दरोगा नेबूलाल और सिपाही राहुल कुमार की पत्नियों ने दरोगा पद के लिए आवेदन किया है। राहुल कुमार की पत्नी दिव्या ने फिजिकल पास भी कर लिया है। साथ तीन पुलिसकर्मियों के परिजनों ने नौकरी के लिए अभी आवेदन नहीं किया है।

Share