विकास दुबे एनकाउंटर: न्यायिक आयोग के सवालों से पुलिस के छूटे पसीने, दिये ये जवाब

नई दिल्ली। पूरे देश में चर्चा का पर्याय बने बिकरू कांड के बाद पुलिस द्वारा किए गए कथित एनकाउंटर की जांच करने आई न्यायिक आयोग की टीम ने एनकाउंटर से जुड़े अनसुलझे सवालों पर पुलिस अधिकारियों से पूछताछ की। आयोग की टीम वारदात स्थल के बाद एक-एक करके एनकाउंटर स्थलों पर पहुंची। एनकाउंटर में शामिल रहे पुलिस कर्मियों सेे कई चरणों में पूछताछ की। जांच आयोग ने विकास दुबे के एनकाउंटर में पुलिस की गाड़ी पलटने वाली जगह भौंती हाइवे का भी मुआयना किया।

आयोग की टीम ने एसटीएफ की टीम से पूछा कि हाइवे इतना चौड़ा होने के बाद भी पुलिस की गाड़ी डिवाइडर पर कैसे चढ़ गई और पलट गई। इस हाइवे पर तो तीन गाड़ियां एक साथ ओवरटेक कर सकती हैं। इस पर एसटीएफ की टीम ने जवाब दिया कि बारिश के कारण सड़क दिखाई नहीं दी और गाड़ी काफी किनारे आ गई, आगे वाला पहिया अचानक डिवाइडर पर चढ़ा और गाड़ी पलट गई।

Gyan Dairy

इसके बाद टीम ने पूछा कि गाड़ी पलटने पर सबसे पहले कौन बाहर निकला। एसटीएफ के दरोगा से पूछा कि आपकी पिस्टल जो छीनी गई थी उसमें कितनी गोलियां थीं। दरोगा ने जवाब दिया दस। इसपर टीम ने कहा एनकाउंटर के बाद उसमें कितनी गोली मिलीं। दरोगा ने कहा एक गोली बची थी। उन्होंने बताया कि विकास ने ताबड़तोड़ फायरिंग की थी।

Share