भाजपा के ये नेता दिल्ली रवाना, बन सकते है यूपी के सीएम

इलाहाबाद : यूपी के विधानसभा चुनाव के परिणामों की घोषणा हो चुकी है। आजादी के बाद किसी राज्य में किसी भी दल द्वारा इतनी बड़ी जीत दर्ज नहीं की गयी है। इसके साथ ही भाजपा में यूपी के मुख्यमंत्री के चेहरे पर मंथन शुरू हो गया है। जिसके लिए भाजपा ने दिल्ली में संसदीय दल की बैठक बुलाई है।

इलाहाबाद पश्चिम विधानसभा सीट पर जीत दर्ज करने वाले भाजपा नेता व राष्ट्रीय प्रवक्ता और पार्टी का जाना माना चेहरा सिद्धार्थ नाथ सिंह को देर शाम भाजपा के वरिष्ठों ने दिल्ली बुलाया। सिद्धार्थनाथ भी मुख्यमंत्री की रेष में शामिल हैं। इन चुनावों में सिद्धार्थ इस सीट से पीएम मोदी का ‘एक्सपेरिमेंट’ रहे हैं। सीएम की दौड़ में इनका नाम भी तेजी से चल रहा है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के इस बुलावे के बाद भाजपाई उत्साहित हैं।

सिद्धार्थ नाथ सिंह पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के नाती हैं। बाहुबली नेता अतीक अमहद के प्रभाव वाली और फिलहाल बीएसपी के कब्जे में चल रहे इस निर्वाचन क्षेत्र से बीजेपी ने सिद्धार्थ नाथ को मैदान में उतारा गया था। सिद्धार्थ के अंकल चौधरी नौनिहाल सिंह इसी विधानसभा क्षेत्र से 3 बार विधायक रह चुके हैं।

Gyan Dairy

माफिया डॉन से नेता बने दिवंगत बीएसपी एमएलए राजू पाल की पत्नी पूजा पाल इस सीट से मैदान में थी। जिनका कभी कोई नेता इस सीट से तिलिस्म नहीं तोड़ पाया था। वे इस समय यहां से विधायक भी हैं। साल 2012 में हुए चुनाव में बसपा को राज्यल में करारी हार का समाना करना पड़ा था, लेकिन पूजा पाल ने इन चुनावों में जीत दर्ज की थी। सबसे ज्यादा विधानसभा सीटों वाले इलाहाबाद में बसपा की वह इकलौती उम्मीदवार थीं, जो जीत दर्ज करा पाने में काबिल रही थीं। पूजा ने इस सीट पर काफी अच्छी छवि बनाई और लोगों की सहानुभूति का लाभ भी उन्हेंन मिला था।

लोगों में यह सोच थी कि इस सीट पर नतीजे इस बार समाजवादी पार्टी की उम्मीदवार रिचा सिंह के हक में जा सकता है। आजादी के बाद रिचा सिंह इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र संघ की पहली महिला अध्यक्ष थी।

Share