जाने कोरोना संक्रमण का किस शहर में पड़ा ज्यादा असर, कहां रही सबसे कम मृत्यु दर

नई दिल्लीः देश में अभी भी कोरोना का कहर जारी है, हालांकि रफ्तार में गिरावट आयी है लेकिन खतर अभी भी बरकरार है। दिल्ली और मुंबई में सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमण फैला लेकिन दिल्ली सरकार ने मृत्यु दर को नियंत्रित रखा है। कोरोना वायरस से बड़े शहरों में प्रति दस लाख जनसंख्या पर हुई मौतों के मामले में दिल्ली 17वें स्थान पर है। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि कोरोना वायरस से होने वाली मौतों के मामले में सभी मेट्रो शहरों में भी दिल्ली सबसे पीछे है। दिल्ली में प्रति दस लाख जनसंख्या पर मुंबई, चेन्नई, कोलकत्ता और बेंगलुरू से कम मौत हुई हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार ने कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के बावजूद मृत्यु दर को बढ़ने से रोकने के लिए कई कदम उठाए हैं।

गुरूवार को भी मुख्यमंत्री आवास पर सीएम अरविंद केजरीवाल ने सभी जिलों के डीएम समेत स्वास्थ्य मंत्री व अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अधिकारियों को एहतियातन सरकारी अस्पतालों में बेड़ों की संख्या बढ़ाने संबंधी निर्देश दिए। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण सभी मेट्रो शहरों के मुकाबले सबसे कम मौत दिल्ली में हुई हैं। मुंबई में प्रति दस लाख जनसंख्या पर 831, चेन्नई में 518, कोलकत्ता में 503, बेंगलूरू में 408 मरीजों की मौत हुई है। जबकि दिल्ली में प्रति दस लाख जनसंख्या पर 338 मौत हुई हैं।

दिल्ली सरकार ने कोरोना वायरस से होने वाली मौतों को कम करने के लिए अपनाए ये उपाय-

 

– दिल्ली सरकार की तरफ से कोरोना वायरस की जांच बड़े स्तर पर की गई। दिल्ली की 2 करोड़ आबादी में से 48.8 लाख लोगों की जांच हो चुकी है।

Gyan Dairy

– दिल्ली के अस्पातलों में बेड़ों की क्षमता बढ़ाई गई। साथ ही मरीजों के लिए आईसीयू और ऑक्सीजन बेड़ बढ़ाए गए।

– कोरोना वायरस के मरीजों के लिए होम आइसोलेशन की सुविधा दी गई और प्लाज्मा थेरेपी की गई।

– कोरोना वायरस के लक्षणों और जांच को लेकर लोगों को जागरूक किया गया। बड़े स्तर पर कोरोना जांच कराने के लिए जागरूकता अभियान दिल्ली के भीतर चलाए गए।

Share