blog

कुख्यात अपराधी आनंदपाल सिंह के बारें में इन पांच बातों का जानकर हैरान हो जाएंगे आप

Spread the love

राजस्थान के अपराध जगत की पहचान बन चुके आनंदपाल सिंह का खात्मा शनिवार रात पुलिस ने एनकाउंटर में कर दिया। आनंदपाल सिंह को राजस्थान में गैंगवार करने के लिए कुख्यात माना जाता था यह शख्स प्रदेश के अपराध जगत में खुद को बादशाह बनाने की ख्वाहिश रखता था लेकिन पुलिस से बच नही सका। आनंदपाल सिंह की कहानी नागौर जिले के लाडनू-डीडवाना हाईवे पर बसे गांव सांवराद से शुरू होती है और चुरू जिले के मालासर में खत्म हो जाती है । हम आपकों बताएंगे इस कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल के बारें में कुछ बातें जो आप शायद नही जानते होंगे।

आनंदपाल उस दौर में नया नया ड़ॉन बना था जब देश में शाहरुख, सलमान फैशन जगत में बादशाह हुआ करते थे। इस कुख्यात बदमाश को भी फैशनेबुल रहना पसंद था और वह हर समय सनग्लास, गॉगल, डेनिम, हैट जैसे लाबों-लबाब ने नज़र आता था। हालांकि आनंदपाल को कम ही लोगों ने देखा था लेकिन फिर भी वह लोगों की नजरों में लगातार बना रहता था। आनंदपाल को स्मार्टफोन रखने का शोख था और वह जेल मे भी स्मार्ट फोन रखता था।

राजस्थान के इस कुख्यात गैंगस्टर को खून की होली खेलना पंसद था। यह आधुनिक और खतरनाक हथियारों क बल पर प्रदेश में ही नही बल्कि अन्य राज्यों में भी कई लोगों का खून बहा चुका था। आनंदपाल का खून की होली खेलने का सिलसिला साल 2006 से शुरू हुआ जो उसकी मौत के समय तक चलता रहा। वह अपने बदन को बुलेटप्रुफ जैकेट से ढ़का रखता था और लोगों के खून से खेलने का शौक रखता था। इन्ही हथियारों के दम पर कुख्यात अपराध जगत का बेताज बादशाह बनने की ख्वाहिश रखता था।

जैसा कि हमने आपकों पहले भी बताया है कि कुख्यात अपराधी आनंदपाल सिंह स्मार्टफोन रखने का शोकीन था और वह अक्सर जेल में भी स्मार्टफोन रखता था। आपकों बतादें कि आनंदपाल सिंह सोशल मीडिया का भी भरपूर इस्तेमाल करता था। फेसबुक और व्हाट्सअप पर लगातार वह अपनी गैंग और युवाओं को मैसेज देता रहता था। आनंदपाल सिंह के फॉलोअर्स ने फेसबुक पर आनंदपाल युथ बिग्रेड नाम से एक पेज बनाय़ा हुआ है जहां उसके समर्थन उसके रॉबिनहुड या गरीबों के मसीहा की तरह पेश करते था।

राजस्थान के एक छोटे से गांव का पप्पु अंतरराष्ट्रीय ड़ॉन और माफिया किंग दाऊद को फॉलो करता था। जीहां, आनंदपाल सिंह अपराध जगत के किंग दाऊद को अपना आईडियल मानता था और उसकी किताबों को पढ़ता था। आनंदपाल दाऊद से काफी इंप्रेस था तथा उसी की तर्ज पर हत्या, माफिया, लूट, डकैती, गैंगवार करता था।

इसके अलावा कुख्यात अपराधी आनंदपाल को अंग्रेजी भाषा पढ़ने का भी शोख था। बेचलर ऑफ एज्युकेशन के बाद से आनंदपाल का नाता पढ़ाई से जरूर छूट गया था लेकिन फिर भी उसने अंग्रेजी पढ़ना जारी रखा। आनंदपाल की गाड़ी से ए लाइफ ऑफ पाई और सुपर ब्रेन जैसी किताबें भी मिली थी। आनंदपाल को फिट रहना भी पसंद था और वह अक्सर सोशल मीडिया पर अपनी बॉड़ी की पिक्चर्स शेयर करता रहता था।

You might also like