Home POLITICS उत्तर प्रदेश और असम में सिर्फ 2 बच्चो वालों को ही मिलेगी...

उत्तर प्रदेश और असम में सिर्फ 2 बच्चो वालों को ही मिलेगी सरकारी नौकरी और सुविधाएं, कानून बनाने की पूरी तैयारी

781
0

हम दो, हमारे दो। बच्चे दो ही अच्छे। ऐसी सोच रखने वालों के लिए उत्तर प्रदेश में आने वाले दिनों में जिंदगी की राह आसान होगी। सरकारी योजनाओं का लाभ अब उन्हीं लोगों को दिया जाएगा, जो दो बच्चों की नीति का पालन करेंगे। राज्य विधि आयोग ने उत्तर प्रदेश में जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून का मसौदा बनाना शुरू कर दिया है।

दूसरी तरफ असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व सरमा ने भी शनिवार को कहा कि राज्य सरकार कुछ विशेष सरकारी योजनाओं का लाभ देने में दो बच्चा नीति लागू करेगी। यह काम क्रमवार तरीके से किया जाएगा।

संवाददाताओं से बात करते हुए असम के मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रस्तावित जनसंख्या नियंत्रण नीति को असम की सभी योजनाओं में तुरंत लागू नहीं किया जाएगा, क्योंकि कई योजनाएं केंद्र की मदद से चलाई जा रही हैं।

उत्तर प्रदेश विधि आयोग फिलहाल राजस्थान व मध्य प्रदेश समेत कुछ अन्य राज्यों में लागू कानूनों के साथ सामाजिक परिस्थितियों व अन्य ¨बदुओं पर अध्ययन कर रहा है। जल्द वह अपना प्रतिवेदन तैयार कर राज्य सरकार को सौंपेगा। राज्य में बीते चार वर्षो के दौरान उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अधिनियम व उत्तर प्रदेश लोक तथा निजी संपत्ति क्षति वसूली अधिनियम समेत कई नए कानून लागू किए गए हैं।

कई अहम कानूनों में बदलाव की रूपरेखा तैयार की जा चुकी है। इसी कड़ी में विधि आयोग ने अब जनसंख्या नियंत्रण के बड़े मुद्दे पर अपना काम शुरू किया है। इसके तहत सरकारी योजनाओं का लाभ उन्हीं लोगों को मिलेगा, जिनके दो या दो से कम बच्चे हैं।

इस वक्त जनसंख्या नियंत्रण कानून देश की पहली जरूरत है, कोरोना जैसी महामारी में हमने देखा किस तरह पूरा तंत्र इस बड़ी जनसंख्या के सामने असहाए पड़ा था। बड़ती जनसंख्या, बढ़ता शरीकरण और शहरों पर और ज्यादा बोझ डालेगी। और हमारे सामने खाद्य सुरक्षा, बेरोजगारी, प्राकृतिक संसाधनों का अत्यधिक दोहन करने, जैसी समस्या लाएगा, जिसका जनसंख्या नियंत्रण के अलावा कोई उपाय नहीं है।

 

Previous articleतीसरी कोरोना लहर की चेतावनी के बाद केंद्र ने जारी किए निर्देश
Next articleसचिन बने 21वीं सदी के बेस्ट बल्लेबाज, दुसरा स्थान संगकारा को मिला