अफगानिस्तान: अमेरिकी सेना की वापसी के साथ तालिबान की गतिविधियां तेज, कई जिलों पर कब्जे का दावा

काबुल। अफगानिस्तान से दो दशक बाद अमेरिकी सेना की वापसी शुरू होते ही तालिबानी आतंकी एक बार फिर सिर उठाने लगे हैं। तालिबान ने कंधार समेत एक तिहाई जिलों पर कब्जा करने का दावा किया है। अफगान सुरक्षा बलों के साथ देर रात भीषण मुठभेड़ के बाद, तालिबान ने पंजवाई जिले पर कब्जा कर लिया। बता दें कि अमेरिकी सेना के हटने के बाद मई से ही तालिबान ने अफगानिस्तान के ग्रामीण इलाकों पर दोबारा कब्जा करना शुरू कर दिया था।

अमेरिका और नाटो बलों द्वारा काबुल के पास अपने मुख्य बगराम एयर बेस को खाली करने के दो दिन बाद ही तालिबान ने पंजवाई जिले में कब्जा कर लिया गया था। पंजवाई जिले से ही अमेरिका और नाटो सेनाओं ने तालिबान और अल-कायदा के खिलाफ दो दशकों तक अभियान चलाया। तालिबान का दावा है कि उसने अफगानिस्तान के 421 जिलों में से तिहाई जिलों को अपने नियंत्रण में ले लिया है। इसके प्रांतीय परिषद के सदस्य मोहिब उल रहमान ने कहा है कि उत्तर पूर्व के बदख्शान के कई जिलों को सुरक्षा बलों ने बिना संघर्ष के ही छोड़ दिया। पिछले तीन दिनों में दस जिले ऐसे ही तालिबान ने हासिल किए हैं। तालिबान के प्रवक्ता ने बिना लड़ाई के जिलों को हासिल करने की पुष्टि की है।

उत्तर पूर्वी अफगानिस्तान में तालिबान निरंतर बढ़त बना रहा हैं और हर रोज कई जिले उसके कब्जे में आ रहे हैं। यहां तालिबान के खदेड़े जाने के बाद सुरक्षा बल के तीन सौ सैनिक अपने देश की सीमा पार कर ताजिकिस्तान में पहुंच गए। ताजिकिस्तान की राष्ट्रीय सुरक्षा की राज्य समिति ने तीन सौ अफगान सैनिकों के आने की पुष्टि की है। समिति ने कहा है बदख्शान प्रांत से लगी सीमा से ये सैनिक आए हैं। तालिबान ने इलाकों में कब्जा करते ही अपने नए कानून कर दिए हैं। नए कानूनों के मुताबिक कोई महिला घर के बाहर अकेले नहीं निकल सकती है। इसके अलावा मर्दों के लिए दाढ़ी रखना जरूरी कर दिया गया है। वहीं,

Gyan Dairy

 

Share