अफगानिस्तान: काबुल विश्वविद्यालय पर आतंकवादी हमला, 25 की मौत

अफगानिस्तान के काबुल विश्वविद्यालय में सोमवार को हुए आतंकी हमले में कम से कम 25 लोगों के मारे जाने की खबर है। कई लोग घायल भी हुए हैं। हमला तब हुआ जब अफगान अधिकारी और ईरानी राजदूत विश्वविद्यालय में आयोजित पुस्तक प्रदर्शनी का उद्घाटन कर रहे थे। आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आइएस) ने हमले की जिम्मेदारी ली है। इससे पहले तालिबान ने एक बयान जारी करके सफाई दी कि उसका इस हमले से कोई लेनादेना नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस हमले की घोर निंदा करते हुए इसे आतंकियों की कायराना हरकत बताया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, ‘मैं आज काबुल विश्वविद्यालय में कायरतापूर्ण आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करता हूं। हमारी प्रार्थना पीड़ितों और घायलों के परिवारों के साथ है। हम आतंकवाद के खिलाफ अफगानिस्तान के बहादुर संघर्ष का समर्थन करना जारी रखेंगे।

अफगानिस्तान के आंतरिक मंत्रालय के प्रवक्ता तारिक एरियन ने हमले में मारे गए लोगों की संख्या नहीं बताई है। हालांकि स्थानीय मीडिया ने हमले में कम से कम 20 लोगों के मारे जाने की बात कही है। एरियन ने कहा कि तीन हमलावर थे, जिन्हें जवाबी कार्रवाई में मार गिराया गया है। एक सप्ताह के अंतराल में छात्रों पर यह दूसरा बड़ा हमला है। 24 अक्टूबर को काबुल के एक शिक्षण संस्थान में एक आत्मघाती हमले में 24 लोग मारे गए थे।

Gyan Dairy

विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले एक छात्र अहमद शमीम ने बताया कि पिस्तौल और एके-47 से लैस आतंकवादी एक कक्षा में घुसे और छात्रों पर गोलियां चलाने लगे। कक्षा में मौजूद कई छात्र या तो मारे गए या घायल हुए हैं। उसने बताया कि हमला विश्वविद्यालय के पूर्वी हिस्से में हुआ। यहां पर कानून और पत्रकारिता संकाय के छात्र पढ़ते हैं। काबुल विश्वविद्यालय देश का सबसे पुराना शिक्षण संस्थान है। यहां पर लगभग 17 हजार छात्र-छात्राएं पढ़ते हैं।

Share