एंटीगुआ और बारबुडा पुलिस ने मेहुल चोकसी के दावे को नकारा, कही ये बात

नई दिल्ली। देश का भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहल चोकसी एंटीगुआ और बारबुडा से भागने के बाद डोमिनिका से पकड़ा गया। एंटीगुआ और बारबुडा के पुलिस प्रमुख एटली रॉडने ने हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के उस दावे को नकार दिया जिसमें, उसने पुलिस द्वारा अपहरण करने की बात कही थी। पुलिस प्रमुख ने कहा कि हमारे पास कोई सूचना या संकेत नहीं है कि मेहुल चोकसी को एंटीगुआ से जबरन हटाया गया था। बता दें कि 25 मई को चोकसी कथित तौर पर एंटीगुआ से लापता हो गया था, जिसके बाद वह डोमिनिका पुलिस ने उसे पकड़ लिया था।

बता दें कि मेहुल चोकसी के वकील ने दावा किया है कि उसके शरीर पर ‘टॉर्चर के निशान’ भी थे। वकील ने यह भी आरोप लगाया है कि मेहुल चोकसी को एंटीगुआ और बरबूडा से उसकी मर्जी के बिना जबरन उठाया गया था। भारत में चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने बताया कि डोमिनिका में हमारे वकीलों को मेहुल चोकसी से सिर्फ दो मिनट ही मिलने दिया गया। उन्होंने बताया कि उन्हें एंटीगुआ के जॉली हार्बर से उन्हें जबरन उठाकर डोमिनिका लाया गया था।

Gyan Dairy

भारत के भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण पर डोमिनिकाई कोर्ट ने रोक लगा दी है, क्योंकि चोकसी के वकील ने वहां बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की है और कहा है कि उसे कानूनी अधिकारों से वंचित कर दिया गया था और उसे शुरू में अपने वकीलों से मिलने की अनुमति नहीं दी गई थी। कोर्ट ने फिलहाल 2 जून तक के लिए चोकसी के प्रत्यर्पण पर रोक लगा दी है।

Share