पाकिस्तान में हिंदू मंदिर पर हमला: सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद 20 अरेस्ट, 150 पर दर्ज हुआ केस

नई दिल्ली। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में भीड़ द्वारा हिन्दुओं के मंदिर में तोड़फोड़ का मामला गर्माता जा रहा है। भारत सरकार के विरोध के बाद पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने इमरान खान सरकार को कड़ी फटकार लगाई। इसके बाद पाकिस्तान की पुलिस ने शनिवार को कहा कि हिंदू मंदिर पर हमले के आरोप में 20 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इस घटना में शामिल 150 से अधिक लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। फिलहाल मंदिर के जीर्णोद्धार का काम भी शुरू हो गया है।

मंदिर पर हमले के मामले में पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को पुलिस को कड़ी फटकार लगाई थी। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने दोषियों की शीघ्र गिरफ्तारी का आदेश दिया था। न्यायालय ने कहा कि इस घटना ने विदेश में देश की छवि खराब की है।

जिला पुलिस अधिकारी रहीम यार खान असद सरफराज ने कहा कि हमने अब तक भोंग में मंदिर पर हमला करने में शामिल 20 से अधिक संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। पुलिस वीडियो फुटेज से संदिग्धों की पहचान कर रही है। मंदिर पर हमला करने में शामिल होने के लिए 150 से अधिक लोगों के खिलाफ आतंकवाद और पाकिस्तान दंड संहिता के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। साथ ही सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर मंदिर के जीर्णोद्धार का काम शुरू कर दिया गया है।

Gyan Dairy

पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश गुलजार अहमद ने गुरुवार को हमले का संज्ञान लिया था। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को पाकिस्तान हिंदू परिषद के संरक्षक प्रमुख डॉ. रमेश कुमार के मुख्य न्यायाधीश से मुलाकात करने के बाद मामले पर स्वत: संज्ञान लिया। मुख्य न्यायाधीश ने पुलिस महानिरीक्षक (आईजीपी) इनाम गनी से पूछा, ‘प्रशासन और पुलिस क्या कर रही थी, जब मंदिर पर हमला किया गया? इस हमले से दुनिया में पाकिस्तान की छवि को  नुकसान पहुंचा है।’ गनी ने कहा कि कि प्रशासन की प्राथमिकता मंदिर के आसपास 70 हिंदुओं के घरों की रक्षा करने की थी।

Share