बांग्लादेश: पूर्व पीएम खालिदा जिया की सजा होगी माफ या जमानत में मिलेगी सहूलियत, सरकार करेगी फैसला

नई दिल्ली। बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया को जेल जाने से राहत मिलेगी या नहीं, इस पर सरकार जल्द ही फैसला लेगी। माना जा रहा है कि खराब सेहत के कारण कानून मंत्रालय से चर्चा के बाद सरकार खालिदा जिया की 17 साल की सजा को माफ करने या फिर जमानत की शर्तों में ढील देने पर फैसला करेगी। बांग्लादेश के गृह मंत्री के हवाले से ये खबरें स्थानीय अखबारों में प्रकाशित हो रही हैं।

बता दें कि बांग्लादेश सरकार ने मार्च 2020 में खालिदा जिया (74) को छह महीनों के लिए बीमारी और कोरोना संकट देखते हुए रिहा किया था। सरकार ने शर्त रखी थी कि खालिदा जिया घर पर ही रहेंगी और अपना इजाज कराएंगी। इस दौरान उन्हें विदेश जानें की इजाजत नही जाएंगी। खराब सेहत को देखते हुए पिछले साल सितंबर में उनकी रिहाई को छह महीने के लिए और बढ़ा दिया गया था। बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) की प्रमुख खालिदा जिया भ्रष्टाचार के दो मामलों में आठ फरवरी 2018 से 17 साल की कैद की सजा काट रही हैं।

Gyan Dairy

बांग्लादेश के अखबार ‘ढाका ट्रिब्यून ने गृह मंत्री असदुज्जमां खान कमाल के हवाले से लिखा कि खालिदा जिया की सजा रद्द करने और उन्हें रिहा करने के बारे में फैसला कानून मंत्रालय के साथ चर्चा के बाद किया जाएगा। गृहमंत्री ने कहा कि ”हमें खालिदा जिया की ओर से उनके परिवार का एक पत्र मिला है। मैं इस पत्र को कानून मंत्रालय के पास भेज दूंगा। गृह मंत्रालय के मुताबिक जिया के छोटे भाई शमीम इसकंदर ने मंगलवार को मंत्रालय में आवेदन दिया क्योंकि रिहाई की अवधि 25 मार्च को खत्म होने जा रही है।

Share