UA-128663252-1

चीनी वायरस वैज्ञानिक का दावा, कोरोना वायरस को छिपाने के प्रयास में WHO भी शामिल

करोना वायरस के संक्रमण को लेकर एक चीनी वायरोलॉजिस्ट (Chinese virologist) ने सनसनीखेज खुलासा किया है. चीनी वायरस वैज्ञानिक डॉक्टर ली मेंग यान ने दावा किया है कि खतरनाक कोरोना वायरस वुहान की एक सरकारी लैब में विकसित किया गया था. एक न्यूज चैनल से इंटरव्यू में उन्होंने ये भी कहा कि चीन की सरकार को संक्रमण के फैलाव के बारे में जानकारी थी. डॉ. ली मेंग यान (Dr Li-Meng Yan) ने दावा किया है कि ”वुहान में एक सरकारी प्रयोगशाला (Government laboratory) में घातक कोरोना वायरस विकसित किया गया था. उन्होंने यह भी बताया कि सरकार बखूबी जानती थी कि कोविड-19 लोगों के बीच तेजी से फैल रहा है.”

WION की एग्‍जीक्‍यूटिव एडिटर पलकी शर्मा से बातचीत के दौरान चीनी वायरोलॉजिस्ट ने कहा कि उन्‍होंने कहा कि वुहान में इसके शुरुआती मामले सामने आने के बाद उन्‍होंने इस वायरस की उत्‍पत्ति के संबंध में शुरुआती जांच की थी. उसमें पता चला कि चीन ने वुहान में इस मामले को दबाने के लिए कवर-अप ऑपरेशन भी चलाया और जनता में जानकारी से पहले ही इसके प्रसार के बारे में चीनी सरकार बखूबी जानती थी.

डॉ. यान के अनुसार विश्व स्वास्‍थ्‍य संगठन यानी WHO (World Health Organization) को भी इस कवर-अप के बारे में जानकारी थी. चीन की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी ने दुनिया की आंखों में धूल झोंकने के लिए इस थ्‍योरी को प्रचारित किया कि ये वायरस वुहान के पशु बाजार से फैला.

डॉ. ली मेंग यान (Dr Li-Meng Yan) यान, हांगकांग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ में वायरोलॉजी और इम्यूनोलॉजी में पोस्ट-डॉक्टरल फेलो थीं. उन्होंने बताया कि उनका उस वक्त सुपरवाइजर्स द्वारा काफी मजाक उड़ाया गया था.

Gyan Dairy

यान ने दावा किया है कि ”चीनी सरकार (Chinese government) अब सोशल मीडिया के जरिए उनकी छवि को धूमिल करने की कोशिश कर रही है. यान का कहना है कि चीनी सरकार उन पर साइबर अटैक कर रही है और उनके परिवार को डराने-धमकाने की कोशिश कर रही है.”

मालूम को कि 14 सितंबर को ही चीनी वायरोलॉजिस्ट डॉ ली यान ने दावा किया था कि ”इस वायरस को वुहान की प्रयोगशाला में किया गया है. यान हांगकांग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ से काफी लंबे समय से जुड़ी रही हैं. जहां पर वे लंबे समय से कोरोना वायरस पर रिसर्च कर रही थीं. उस दौरान उन्‍होंने पाया कि ये कोरोना वायरस चीन की लैब में विकसित किया गया.”

Share