डोमिनिका सरकार ने मेहुल चोकसी को माना अवैध अप्रवासी, जानें आगे क्या होगा

रोसो। पीएनबी को हजारों रुपए का चूना लगाने वाला भगोड़ा कारोबारी मेहुल चोकसी डोमिनिका में अवैध अप्रवासी घोषित हो गया है। डोमिनिका सरकार के मंत्री रेबर्न ब्लैकमूर ने पुलिस से कहा है कि मेहुल चोकसी को देश से बाहर भेजने के लिए कानूनी उपाय जल्द किए जाएं। डोमिनिका सरकार के इस आदेश को अदालत समक्ष रखा गया है। इसके साथ ही डोमिनिका की कोर्ट से अपील की गई है कि भगोड़े मेहुल चोकसी की याचिका खारिज करके उसे तत्काल भारत भेजा जाए। डोमिनिका सरकार के इस आदेश के बाद मेहुल चोकसी के भारत आने का रास्ता साफ होता नजर आ रहा है।

बता दें कि भगोड़ा कारोबारी मेहुल चोकसी एंटीगुआ से भाग निकला था। इसके बाद वह क्यूबा भागते समय डोमिनिका पुलिस के हत्थे चढ़ गया। मेहुल चोकसी के पास एंटीगुआ की नागरिकता है। मेहुल चोकसी की करतूतों से परेशान एंटीगुआ की सरकार ने डोमिनिका से उसे सीधे भारत को सौंपने का अनुरोध किया था। लेकिन इससे पहले डोमिनिका की एक अदालत ने चोकसी के प्रत्यर्पण पर रोक लगा दी है।

Gyan Dairy

बता दें कि मेहुल चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक से कथित तौर पर 13,500 करोड़ रुपये की जालसाजी की थी। नीरव मोदी अभी लंदन की एक जेल में है और अपने प्रत्यर्पण के खिलाफ मुकदमा लड़ रहा है। चोकसी ने निवेश द्वारा नागरिकता प्राप्त करने के कार्यक्रम का इस्तेमाल करते हुए वर्ष 2017 में एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता ले ली थी और जनवरी 2018 के पहले सप्ताह में भारत से फरार होकर वहां चला गया था।

Share