ड्रैगन की करतूत: गलवान घाटी पर चीन के झूठ पर सवाल उठाने वाले ब्लॉगर को 8 माह की कैद, जानें पूरा मामला

नई दिल्ली। बीते साल भारतीय सेना के हाथों गलवान घाटी में बुरी तरह से पिटने के बाद से चीन बुरी तरह खिसिया गया है। लद्दाख में गलवान घाटी पर भारतीय सैनिकों के साथ ही हिंसक झड़प में चीनी सैनिकों की मौत के आंकड़े पर सवाल उठाने वाले ब्लॉगर किउ जिमिंग को चीन ने 8 महीने कैद की सजा दी है। चीन ने अपने सैनिकों की मौत के जो आंकड़े जारी किए थे। ब्लॉगर किउ जिमिंग ने उन पर सवाल खड़े किए थे। इससे बौखलाए ड्रैगन ने किउ जिमिंग को हिरासत में ले लिया। इसके बाद किउ जिमिंग को 8 महीने कैद की सजा सुनाई गई है। इंटरनेट पर 2.5 मिलियन फॉलोअर्स के साथ सिलेब्रिटी स्टेटस हासिल कर चुके किउ जिमिंग पर शहीदों के अपमान का आरोप लगाया गया है

चीन ने ब्लॉगर किउ जिमिंग को 8 महीने की कैद के साथ ही 10 दिन के भीतर राष्ट्रीय मीडिया के माध्यम से अपने बयान पर माफी मांगने का ​आदेश दिया है। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि किउ जिमिंग ने अपनी गलती स्वीकार की है और अदालत में अपनी अर्जी में कहा है कि वह आगे कभी इस तरह की हरकत नहीं करेगा। इसलिए उसे कम सजा दी गई है। इससे पहले 1 मार्च को किउ ने एक टीवी चैनल पर अपने बयान को लेकर माफी मांगी थी।

Gyan Dairy

किउ का बयान चीन की ओर से गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों के साथ झड़प में 4 सैनिकों के मारे जाने की पुष्टि के बाद आया था। लंबे समय तक चीन ने गलवान में अपने किसी सैनिक के मारे जाने की पुष्टि ही नहीं की थी, लेकिन दबाव के बाद यह स्वीकार किया था। इसके बाद ही दो सोशल मीडिया पोस्ट में किउ ने दावा किया था कि चीन सरकार जितने सैनिकों की मौत की बात कर रही है, उससे कहीं ज्यादा लोग हताहत हुए हैं। साथ ही रूसी न्यूज एजेंसी तास ने कहा था कि गलवान घाटी में 45 चीन सैनिकों की मौत हुई है।

Share