इजराइल में जमीन पर नहीं दीवारों पर होती खेती, जानिए कैसे

नई दिल्ली। हम चाहे जितना कम्प्यूटर पर काम करें, बहुत हाईटेक हो जाएं लेकिन आखिरकार खाते तो हम अनाज, सब्जियां और फल ही हैं। पूरी दुनिया में कृषि उत्पादन बढ़ाने की तकनीकों पर भी शोध चल रहे हैं। वहीं एक तकनीक ने लोगों का ध्यान आकर्षित किया है। यह तकनीक है वर्टिकल फार्मिंग यानि की दीवार पर खेती। यह तकनीक धीरे-धीरे दुनिया में काफी लोकप्रिय हो रही है। यहूदी देश इजराइल इसी खेती पर जोर दे रहा है।

दरअसल, इजराइल में कृषि योग्य भूमि की खासी कमी है। इस समस्या से निजात पाने के लिए यहां की सरकार ने वर्टिकल फार्मिंग को बढ़ाया दिया। इजरायल में जहां तकनीक की मदद से जमीन पर नहीं, बल्कि दीवारों पर खेती की जाती हैं। दीवारों पर ही गेहूं के साथ-साथ सब्जियां भी उगाई जाती हैं। इस तकनीक का नाम हैं वर्टिकल फार्मिंग यानी ‘दीवार पर खेती करना’ जो कि अब दुनियाभर में लोकप्रिय हो रही है।
इजरायल की कंपनी ग्रीनवॉल के संस्थापक पायोनिर गाइ बारनेस के मुताबिक, उनकी कंपनी के साथ गूगल और फेसबुक जैसी बड़ी कंपनियां भी जुड़ी हैं, जिनके सहयोग से इजरायल में कई दीवारों पर वर्टिकल फार्मिंग तकनीक से खेती की जा रही है।

वर्टिकल फार्मिंग के तहत पौधों को गमलों में छोटे-छोटे यूनिट्स में लगाया जाता है और साथ ही यह सुनिश्चित किया जाता है कि पौधे गमलों से गिरें न। इन गमलों में सिंचाई के लिए भी विशेष प्रबंध किया जाता है। हालांकि अनाज उगाने के लिए यूनिट्स को कुछ समय के लिए दीवार से निकाल लिया जाता है और फिर बाद में उन्हें वापस दीवार में लगा दिया जाता है। अपने घर की दीवार को एक छोटा सा फार्म बनाने के मौका का विचार कई लोगों को आकर्षित कर रहा है। कई लोग इसके जरिए अपने घर की दीवार को सजावट के तौर पर इस्तेमाल करते हैं तो कुछ लोग इसके जरिए अपनी पसंद की सब्जी ऊगाने के लिए। इस पद्धति से बड़ी दीवारों पर गेहूं, चावल, जैसे अनाजों के अलावा कई तरह की सब्जियों का भी उत्पादन हो सकता है।

Gyan Dairy

इस तकनीक में दीवार पर ऐसी व्यवस्था की जाती है की पौधे अलग से छोटे-छोटे गमलों में लगाए जाते हैं और उन्हें व्यवास्थित तरीके से दीवार पर इस तरह से रख दिया जाता है कि वे गिर न सकें। इनकी सिंचाई के लिए खास तरह की ड्रॉप इरिगेशन की तरह की व्यवस्था होती है जिससे इन पौधों को नियंत्रित तरीके से पानी दिया जाता है और इससे पौधों को दी जानी वाली पानी की मात्रा तो नियंत्रित होती है, पानी की बचत भी बहुत बचत होती है। इस पूरी सिंचाई व्यवस्था को कम्प्यूटर के जरिए नियंत्रित भी किया जा सकता है। इजराइल के अलावा अमेरिका, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया, इजराइल, चीन, कोरिया, जापान और भारत के शहरी इलाकों में तेजी से फैल रही है।

Share