भारत ने डोमिनिका को दी कोरोना वैक्सीन, प्रधानमंत्री ने खुद उतारे टीके, कही ये बात

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में आतंक का पर्याय बन चुके कोरोना वायरस पर लगाम लगाने के लिए भारत की कोरोना वैक्सीन काफी कारगर साबित हो रही है। भारत इस वैक्सीन को दुनिया के अन्य देशों को भी मुहैया करा रहा है। कोरोना वैक्सीन पहुंचने पर डोमिनिकन गणराज्य के प्रधानमंत्री रूजवेल्ट स्केरिट ने पीएम नरेन्द्र मोदी और भारत की जमकर तारीफ की है। भारत ने इस द्वीपीय देश में कोरोना वैक्सीन की 35,000 पहुंची हैं। इससे यहां की करीब 72 हजार की आबादी में आधे लोगों को टीका लग सकेगा। डोमिनिकन गणराज्य के प्रधानमंत्री रूजवेल्ट स्केरिट ने कहा कि मुझे इतनी जल्दी भारत से वैक्सीन के तौर पर मदद मिलने की उम्मीद नहीं थी। दरअसल, उन्होंने विगत 19 जनवरी को ही भारत सरकार से कोरोना वैक्सीन भेजने का अनुरोध किया था।

भारत सरकार ने इस अनुरोध को स्वीकार करते हुए कोरोना वैक्सीन रवाना कर ​दी। मंगलवार को डोमिनिका के डगलस-चार्ल्स एयरपोर्ट पर भारत से वैक्सीन लेकर विमान पहुंचा। यह वैक्सीन पड़ोसी देश बारबाडोस के एयर नेशनल गार्ड के प्लेन से पहुंचीं थी। कोरोना वैक्सीन की खेप रिसीव करने के लिए खुद पीएम स्केरिट और उनकी कैबिनेट मौजूद थी। पीएम रूजवेल्ट स्केरिट ने स्वयं वैक्सीन को प्लेन से उतारने में सहयोग किया। भारत में बनी ऑक्सफोर्ड-AstraZeneca की वैक्सीन को कैरिबियाई देशों में पहुंचाया गया है।

इसके बाद एक औपचारिक कार्यक्रम में डोमिनिकन पीएम ने कहा कि ‘मैं यह कहूंगा कि मुझे इस बात की कल्पना भी नहीं थी कि हमारे अनुरोध पर इतनी जल्दी जवाब मिलेगा। कोई भी यह समझ सकता है कि इस तरह के गंभीर संकट में किसी भी देश के लिए अपनी ही रक्षा करना एक चुनौती है। ऐसी स्थिति में पीएम नरेंद्र मोदी की ओर से किए प्रयासों के चलते यह संभव हुआ। उन्होंने मेरिट के आधार पर हमारी मांगों को स्वीकार किया और हमारे लोगों की समानता को स्वीकार किया।’ पीएम नरेंद्र मोदी का डोमिनिकल पीएम ने आभार व्यक्त किया। बता दें कि भारत की ओर से बारबाडोस के लिए भी वैक्सीन भेजी गई हैं। बता दें कि भारत ने पड़ोसी देशों समेत दुनिया के कुल 25 देशों को 24 मिलियन कोरोना वैक्सीन की डोज उपलब्ध कराने का फैसला लिया है। इन देशों में युगांडा, इक्वाडोर, निकारागुआ, मोरक्को और नामीबिया जैसे देश शामिल हैं।

Gyan Dairy

 

Share