चीन के झूठ का खुलासा करने वाली भारतीय मूल की पत्रकार मेघा राजगोपालन को मिला पुलित्जर पुरस्कार

नई दिल्ली। इंग्लैंड में रहने वाली भारतीय मूल की पत्रकार मेघा राजगोपालन को पत्रकारिता जगत के सबसे बड़े सम्मान पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। पत्रकार मेघा राजगोपालन ने ड्रैगन की काली करतूतों को दुनिया के सामने उजागर किया था। मेघा राजगोपालन ने चीन के डिटेंशन कैंपों में एइगुर मुसलमानों को दी जा रही अमानवीय यातनाओं को उजागर किया था। मेघा ने सैटेलाइट तस्वीरों का विश्लेषण करके चीन द्वारा लाखों उइगुर मुसलमानों को कैद करने का खुलासा किया था।

पिछले साल भारत के तीन पत्रकारों को पुलित्जर सम्मान से सम्मानित किया गया था। पत्रकारिता का सबसे बड़ा सम्मान पुलित्जर पुरस्कार सबसे पहले साल 1917 में दिया गया था। मेघा राजगोपालन ने अपने पिता के बधाई संदेश को ट्विटर पर पोस्ट किया। इस मैसेज में उनके पिता मेघा को पुलित्जर पुरस्कार मिलने की बधाई दी है। उनके पिता ने लिखा कि बधाई मेघा, मम्मी ने मुझे अभी यह संदेश भेजा है। पुलित्जर पुरस्कार। बहुत बढ़िया। जिसके जवाब में मेघा ने थैंक्स लिखकर रिप्लाई किया।

Gyan Dairy
Share