blog

चीन के डॉक्टरों का दावा- जापान की इस दवा से सिर्फ 4 दिन में ठीक हो रहे हैं कोरोना के मरीज

चीन के डॉक्टरों का दावा- जापान की इस दवा से सिर्फ 4 दिन में ठीक हो रहे हैं कोरोना के मरीज
Spread the love

नई दिल्ली। कोरोना वायरस (Coronavirus) की चपेट में आए लोगों की संख्या दुनिया में बढ़कर 2 लाख से भी ज्यादा हो गयी है। वैज्ञानिकों के मुताबिक कोरोना की वैक्सीन बनाने में अब ही कुछ और महीनों का वक़्त लग सकता है। लेकिन इस बीच कोरोना की कारगर दवा को लेकर चीन के डॉक्टर्स की तरफ से कई दावे किए जा रहे हैं। जापान के मीडिया के अनुसार, चीन के डॉक्टर्स का कहना है कि जापान में इन्फ्लूएंजा के लिए इस्तेमाल की जाने वाली एक दवा कोरोना वायरस के मरीजों पर काफी प्रभावी साबित हो रही है।  

फेवीपिरावीर दवाई कर रही मरीजों पर असर

झांग ने मंगलवार को कहा कि, यह दवा उच्च स्तर की सुरक्षा है और उपचार में स्पष्ट रूप से प्रभावी है। सार्वजनिक प्रसारक एनएचके ने कहा कि जिन मरीजों को शेनज़ेन में दवा दी गई थी, वे पॉजिटिव होने के चार दिनों के बाद वायरस से प्रभाव से निगेटिव हो गए। जबकि इस दवा का जिन मरीजों को डोज नहीं दिया गया उन्हें ठीक होने में 11 दिनों का समय लगा। इसके अलावा, एक्स-रे ने लगभग 91% रोगियों में फेफड़ों की स्थिति में सुधार की पुष्टि की, जिनका फेवीपिरावीर से इलाज किया गया था।

जापान ने दवा को लेकर कही ये अहम बात

लेकिन एक जापानी स्वास्थ्य मंत्रालय के स्रोत ने सुझाव दिया कि दवा अधिक गंभीर लक्षणों वाले लोगों में प्रभावी है। हम एवीगन को 70 से 80 लोगों को दे चुके हैं, लेकिन यह उस स्थिति में अच्छी तरह काम नहीं करता है जब वायरस पहले से ही दोगुने हो गया हों। बता दें कि, 2016 में, जापान सरकार ने गिनी में इबोला वायरस के प्रकोप का मुकाबला करने के लिए आपातकालीन सहायता के रूप में फ़ेविपिरावीर की आपूर्ति की। 

फेविपिरावीर को कोरोना रोगियों पर उपयोग के लिए सरकार की मंजूरी की आवश्यकता होगी, क्योंकि यह मूल रूप से फ्लू का इलाज की दवाई है। एक स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया दवा को मई के शुरू में मंजूरी दी जा सकती है। लेकिन अगर क्लीनिकल रिसर्च के परिणामों में देरी हो रही है, तो अनुमोदन में भी देरी हो सकती है।

You might also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *