बेंजामिन नेतन्याहू को हटाकर नफ्ताली बेनेट बन सकते हैं इजरायल के नए पीएम, जानें खास बातें

यरूशलम। इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की कुर्सी खतरे में है। बीते 12 साल से इजराइल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू की जगह नफ्ताली बेनेट अगले प्रधानमंत्री हो सकते हैं। अगले सप्ताह संसद में विपक्षी दल अगर बहुमत साबित करने में सफल होते हैं तो नफ्ताली बेनेट अगले प्रधानमंत्री होंगे। बता दें कि नफ्ताली बेनेट पहले इजरायल की कैबिनेट का हिस्सा रह चुके हैं। नफ्ताली बेनेट के पीएम बनते ही इजराइल की विदेश नीति में कोई बड़ा अंतर दिखना मुश्किल हैं। क्योंकि बेनेट भी नेतन्याहू की तरह ही दक्षिणपंथी विचारधारा के नेता हैं।

इजरायल की कट्टर धार्मिक यामिना पार्टी के मुखिया 49 साल के अरबपति नफ्ताली बेनेट 1967 की जंग में इजरायल की ओर से कब्जाए गए वेस्ट बैंक इलाके के विलय के वह पक्षधर रहे हैं। उनके सुझाव पर ही नेतन्याहू ने इस प्रक्रिया की शुरुआत की थी। इसके अलावा फलस्तीन और ईरान को लेकर भी बेनेट अपने कड़े रुख के लिए जाने जाते हैं।

बता दें कि इजरायल में साल 2019 के बाद से अब तक 4 बार चुनाव हो चुके हैं, लेकिन परिणाम निर्णायक नहीं रहा है। आखिरी बार मार्च में हुए चुनावों में यामिना पार्टी को 120 सांसदों वाले सदन में 7 सीटें ही मिली थीं, लेकिन 13 पार्टियों के बीच किंगमेकर बनने के लिए यह भी काफी है। गठबंधन की ओर से तय करार के तहत वह पहले दो सालों के लिए 2021 से 2023 तक के लिए पीएम बनेंगे। इसके बाद याइर लापिड पीएम बनेंगे। दोनों नेता भले ही अलग-अलग विचारधारा से आते हैं, लेकिन नेतन्याहू के खिलाफ दोनों ने ही एकजुटता दिखाई है।

Gyan Dairy

मूल रूप से इजरायल के नफ्ताली बेनेट का जन्म अमेरिकी प्रवासी परिवार में हुआ था। मिलिट्री कमांडो यूनिट में सेवाएं दे चुके और टेक आंत्रप्रेन्योर रहे बेनेट ने पेमेंट सिक्योरिटी कंपनी Cyota Inc की स्थापना की थी। इसके अलावा 2006 से 2008 के दौरान जब नेतन्याहू विपक्ष के नेता था, तब वह उनके चीफ ऑफ स्टाफ थे। वह इजराइल की कैबिनेट में डिफेंस, शिक्षा और धार्मिक मंत्रालय समेत कई अहम विभागों को वह संभाल चुके हैं।

Share